बढ़ रहा है वांग्‍मय साहित्‍य सेट स्‍थापना का कारवां, 337वीं पायदान पर पहुंचा

-उरई के गांधी इंटर कॉलेज के पुस्‍तकालय में की गयी स्‍थापना

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। गायत्री ज्ञान मंदिर इंदिरा नगर, लखनऊ के विचार क्रान्ति ज्ञान यज्ञ अभियान के अन्तर्गत विभिन्‍न संस्‍थाओं में वांग्‍मय साहित्‍य की स्‍थापना का अभियान चल रहा है, अब यह अभियान 336 स्‍थानों पर स्‍थापित किया जा चुका है। गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं. श्री राम शर्मा आचार्य द्वारा रचित सम्पूर्ण 79 खण्डों का यह 337वां सेट श्री गाँधी इण्टर कालेज स्टेशन रोड, उरई (उ.प्र.) के केन्द्रीय पुस्तकालय में स्थापित किया गया।

इस वांग्‍मय साहित्य की स्‍थापना गायत्री परिवार के मनोज कुमार निरंजन एवं उनकी धर्मपत्नी अर्चना निरंजन ने अपने पूज्य बाबा रामचरन निरंजन एवं पूज्य मातापिता स्व. राम प्रसाद निरंजन एवं मिथलेश की स्मृति में संस्थान के पुस्तकालय में की गयी। इस मौके पर सभी छात्र-छात्राओं एवं शिक्षक-शिक्षिकाओं को ‘अखण्ड ज्योति’ पत्रिका भेंट की गयी।

कार्यक्रम में शामिल हुए मुख्‍य अतिथि जिला विद्यालय निरीक्षक भगवत पटेल ने कहा कि पूर्वजों की स्मृति में किया ज्ञान दान एक सच्ची श्रद्धांजलि‍ है। इस स्थापना अभियान के मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा ने वांग्‍मय साहित्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि पूर्वजों की स्मृति में ज्ञानदान इस युग की अनिवार्य आवश्यकता है।

कार्यक्रम के अवसर पर मनोज कुमार निरंजन के अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि मैं अपने पूज्य माता-पिता की स्मृति में इस संस्थान को वांग्‍मय साहित्य भेंट करते हुए गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं।

इस अवसर पर संस्थान के प्रधानाचार्य डॉ. रविशंकर अग्रवाल ने गायत्री परिवार के प्रति संस्थान को वांग्‍मय साहित्य भेंट करने पर कृतज्ञता व्यक्त की।

इस कार्यक्रम में संस्थान के प्रवक्ता डॉ. पीयूष मंगलम, देवेन्द्र पाल सिंह, मिथलेश त्रिवेदी, अवधेश निरंजन, देवेन्द्र कुमार झा गायत्री परिवार उरई, के कार्यकर्ता, डॉ. एस.आर. अग्रवाल, राकेश मिश्रा, ओम गुप्ता सहित संस्थान के शिक्षक-शिक्षिकायें एवं छात्र-छात्रायें मौजूद थे।