Retired हुआ हूं, tired नहीं, सच्‍ची सेवा में अब नहीं होगा विघ्‍न

-एक दिव्‍य कोशिश के सच्‍चे सेवक दीपक महाजन हुए सेवानिवृत्‍त

लखखऊ। 3 दिसंबर 1980 में रूरल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट में कानपुर में सेवा ज्‍वॉइन की थी, लगभग 40 वर्ष की सेवा होने के बाद आधिकारिक तौर पर मैं सरकारी दायित्वों से सेवानिवृत्त हो गया और एक वरिष्ठ नागरिक बन गया हूं। मैं Retired हुआ हूं, tired नहीं, अब सच्ची सेवा में कोई भी विघ्न उत्पन्न नहीं होगा।

यह बात ‘एक दिव्य कोशिश’ के अध्‍यक्ष दीपक महाजन ने कही। आपको बता दें कि दीपक महाजन एक दिव्‍य कोशिश नाम की संस्‍था के बैनर तले विभिन्‍न प्रकार की समाज सेवा करते हैं, इन सेवा में गरीब, बीमारों की मदद के साथ ही लावारिस लाशों का अंतिम संस्‍कार जैसा कार्य भी शामिल है। दो दिन पहले ही दो शवों का एक साथ अंतिम संस्‍कार किया।

उन्‍होंने कहा कि अब 24 घंटे सच्ची वास्तविक सामाजिक सेवा के कार्यों पर ध्यान रहेगा। आयु जरूर 60 वर्ष की हो गई है परंतु शारीरिक आयु और मन से आयु अभी 28 वर्ष के नवयुवक की ही है क्योंकि योग के माध्यम से खुद को जवान और एनर्जेटिक रखते हैं।

उन्‍होंने बताया कि आज ही मेरे विभाग के चीफ इंजीनियर सच्चिदानंद पांडे भी मेरे साथ सेवानिवृत्त हुए हैं मैं उनके स्वस्थ प्रसन्न चित्त भावी जीवन के लिए मंगल कामना करता हूं।

उन्‍होंने कहा कि लोगों के रोग व्याधियों दूर करने का सौभाग्य प्रभु हनुमान ने हमें प्रदान किया है कितनी खुशी की बात है कि मेरे आराध्य, मेरे जीवन की प्रेरणा हनुमान जी का आज दिन है और इसी दिन प्रभु हनुमान ने मुझे 24 घंटे वास्तविक सच्ची सेवाओं के लिए चुन लिया है। उन्‍होंने बताया कि किसी भी वास्तविक सच्ची सेवा के लिए एक दिव्य कोशिश के अध्यक्ष दीपक महाजन 94 50 111 567 चेयर पर्सन वर्षा वर्मा 831 819 3805 से संपर्क कर सकते हैं।