बर्दाश्त की सीमा बस दिन दो-चार, फिर मामला आर या पार

संजय गांधी पीजीआई के रेजीडेंट डॉक्टरों का फिलहाल शांतिपूर्ण काम करते हुए विरोध जारी

एक डॉक्टर ने शुरू की भूख हड़ताल 

लखनऊ। संजय गांधी पीजीआई के रेजीडेंट डॉक्टरों का विरोध प्रदर्शन आज एक नए चरण में प्रवेश कर गया। डॉक्टरों ने आज से भूख हड़ताल शुरू की है इस भूख हड़ताल के दौरान वे काम पूर्ववत तरीके से कर रहे हैं। हड़ताल की शुरुआत में एक डॉ अजय शुक्ल ने 72 घण्टे की भूख हड़ताल शुरू की है।

यह जानकारी देते हुए रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ आशुतोष ने बताया की हमारी आशा के विपरीत हम लोगों को वादा करने के बाद भी एम्स दिल्ली के बराबर वेतन भत्ता नहीं दिया गया।
उन्होंने बताया कि क्योंकि हम मरीजों का नुकसान नहीं चाहते इसलिए फिलहाल हम लोग शांतिपूर्ण तरीके से काम करते हुए अपना विरोध जता रहे हैं लेकिन अगर दो दिनों में हमारी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो हम हड़ताल पर जाने को बाध्य होंगे। हड़ताल की अवधि में आवश्यक सेवाएं जारी रखी जाएंगी।
उन्होंने बताया कि हम अपनी बात फैकेल्टी मेंबर्स और संस्थान के अधिकारियों से व्यक्तिगत रूप से मिलकर भी बता रहे हैं तथा उनसे निवेदन कर रहे हैं कि हमारी मांगों पर विचार करके अपनी सहमति दें तथा हमारा समर्थन करें। उन्होंने बताया कि केजीएमयू और लोहिया संस्थान के रेजिडेंट डॉक्टर हमारी मांगों के समर्थन में खड़े हुए हैं । आपको बता दें कल भी डॉक्टरों ने विरोध स्वरूप गांधीगिरी करते हुए पौधा भेंट करने का कार्यक्रम चलाया था तथा इसके तहत निदेशक व अन्य फैकेल्टी मेंबर्स को इन आंदोलनकारी डॉक्टरों ने पौधा भेंट किया था फिलहाल खबर यह यह है कि शासन भी संस्थान के अधिकारियों के साथ बैठक कर रहा है और इस समस्या का समाधान निकालने की कोशिश लगातार की जा रही है।