केजीएमयू कर्मचारी परिषद के अध्‍यक्ष पद पर प्रदीप गंगवार ने फहरायी जीत की पताका

-महामंत्री के पद पर चुने गये राजन यादव, कुल 12 पदों के लिए हुआ था चुनाव
प्रदीप गंगवार, अध्‍यक्ष

 

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में शुक्रवार को हुए कर्मचारी परिषद के चुनाव में प्रदीप गंगवार को शानदार जीत हासिल हुई है। उन्‍होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी पिछली बार के अध्‍यक्ष विकास सिंह को 270 मतों के बड़े अंतर से मात दी, प्रदीप गंगवार को 1005 मत प्राप्‍त हुए जबकि विकास सिंह को 735 मत मिले, तीसरे स्‍थान पर रहे पुनीत गौतम को 100 और दिनेश चन्‍द्र को 12 मत प्राप्‍त हुए हैं। जबकि महामंत्री के पद पर राजन यादव ने 634 मत पाकर विजय हासिल की, दूसरे नम्‍बर पर रहे अनिल राव को 534, शैलेन्‍द्र रावत को 284, राम विलास मौर्य को 252 व ओपी सिंह को 73 मत प्राप्‍त हुए।

यह जानकारी देते हुए सह चुनाव अधिकरी राकेश कुमार ने बताया कि शुक्रवार को संपन्न हुए चुनाव की मतगणना शुक्रवार देर रात चलती रही थी। उन्‍होंने बताया कि कुल 12 पदों के लिए 37 उम्‍मीदवार मैदान में थे तथा 2244 में से 1936 मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग किया।

अतुल उपाध्याय, वरिष्ठ उपाध्यक्ष

अन्‍य परिणामों के बारे में उन्‍होंने बताया कि उपाध्यक्ष के 3 पदों पर अतुल उपाध्याय को 793, प्रिया यादव को 716, सोनू बाल्मीकि को 523 मत मिले हैं, उपाध्यक्ष पद पर पराजित प्रत्याशियों में करुण श्रीवास्तव, हनुमत लाल मौर्या, राधे लाल जायसवाल, रत्नेश कुमार दशरथ कनौजिया व शत्रुघ्न शामिल हैं।  इसी प्रकार कोषाध्यक्ष के 1 पद पर हरिलाल सरोज को चुना गया है उन्होंने 720 मत पाकर विजय हासिल की जबकि उनके खिलाफ लड़ रहे उमाशंकर और सुरेश सिंह पराजित हो गए। इसके अतिरिक्त संगठन मंत्री के पद पर राकेश कुमार को सर्वाधिक 1111 मत प्राप्त हुए हैं यह किसी भी प्रत्याशी द्वारा पाए गए सबसे ज्यादा मत हैं। इस पद पर पराजित प्रत्याशियों में रंजीत कुमार और नंदलाल शामिल हैं।

इसी प्रकार मंत्री के एक पद पर पवन कुमार मिश्रा ने 895 वोट हासिल कर मात्र 7 वोट से नजदीकी जीत हासिल की दूसरे नम्‍बर पर सोनिय चडढा को 888 मत मिले। संयुक्त मंत्री के 3 पदों पर खालिद अख्तर, छोटेलाल तथा रामू कुमार विजय हुए हैं। इनके अलावा प्रचार मंत्री के 1 पद पर सुभाष चंद्र को निर्विरोध निर्वाचित घोषित किया गया है। इनके खिलाफ कोई प्रत्याशी मैदान में नहीं खड़ा हुआ।