Tuesday , August 23 2022

फार्मेसिस्‍ट फेडरेशन ने भी किया पुरानी पेंशन बहाली की गहलोत की घोषणा का स्‍वागत

-राजस्‍थान सरकार को ईमेल से भेजा धन्‍यवाद पत्र

सुनील यादव

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। पुरानी पेंशन योजना की बहाली करने पर फार्मेसिस्ट फेडरेशन उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष सुनील यादव ने ईमेल के द्वारा पत्र भेजकर राजस्थान सरकार के मुख्यमंत्री के निर्णय का स्वागत किया है और कर्मचारियों की तरफ से उनका धन्यवाद ज्ञापित किया है। सुनील यादव के साथ ही संयोजक के के सचान, महामंत्री अशोक कुमार, वरिष्ठ उपाध्यक्ष जे पी नायक ने भी राजस्‍थान सरकार के फैसले का स्‍वागत किया है।

फार्मासिस्ट फेडरेशन का कहना है कि वास्तव में पुरानी पेंशन योजना कर्मचारियों के भविष्य के लिए एक संजीवनी की तरह है, किसी भी सेवायोजक का यह कर्तव्य होता है कि वह सेवा के उपरांत अपने कार्मिकों के भविष्य का खयाल रखें और उन्हें सामाजिक सुरक्षा प्रदान करे।

उन्‍होंने कहा है कि 2004 के बाद नई पेंशन प्रणाली लागू होने के बाद कर्मचारी अपने भविष्य के प्रति संदेह से भरे हुए हैं, उनका भविष्य सुरक्षित नहीं रह गया है, इसलिए पूरे भारतवर्ष में पुरानी पेंशन योजना की बहाली की मांग की जा रही है। वर्तमान समय में राजस्थान सरकार के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा बजट सत्र में पुरानी पेंशन योजना का लाभ दिए जाने की घोषणा की गई जो वास्तव में स्वागत योग्य है।

वास्तव में यह कर्मचारियों की जायज मांग है जो पूरी तरह संवैधानिक है, पूरी तरह मानवीय है, जिसे भारत सरकार के साथ ही सभी राज्य सरकारों को भी तत्काल लागू कर देना चाहिए और पूरे भारत के सभी कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना का लाभ दिया जाना चाहिए।

उत्तर प्रदेश में चल रहे वर्तमान विधान सभा चुनाव में पुरानी पेंशन योजना एक बड़ा मुद्दा बनकर उभरा है प्रमुख विपक्षी दल द्वारा सरकार बनने पर पुरानी पेंशन योजना की बहाली की घोषणा की गई है जिससे कर्मचारी अत्यंत आशान्वित हैं। इससे ऐसा प्रतीत होता है कि कर्मचारियों की आवाज अब एक ताकत के रूप में उभर रही है और कोई भी सरकार अब कर्मचारियों की आवाज को दबा नहीं सकती। सुनील यादव ने उत्तर प्रदेश के कर्मचारियों का भी आह्वान किया है कि अपनी एकता को ऐसे ही बरकरार रखें जिससे बहुत जल्द पुरानी पेंशन की प्राप्ति हो सके ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twenty − 7 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.