बच्‍चों में होने वाले कैंसर के लक्षणों को समय रहते पहचानने के लिए माता-पिता रहें जागरूक

-लखनऊ एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्‍स के सचिव डॉ टीआर यादव ने किया जागरूक

-इंटरनेशनल चाइल्‍डहुड कैंसर डे पर कैंसर विशेषज्ञ डॉ गीतिका पंत की राय

डॉ गीतिका पंत, असिस्‍टेंट प्रोफेसर

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। बच्‍चों में भी कैंसर होता है, जरूरत है इसे समय पर पहचानने की, क्‍यों‍कि समय पर पहचान कर इलाज करने से 80 फीसदी बच्‍चे कैंसरमुक्‍त हो जाते हैं। विशेषज्ञों के अनुसार भारत में प्रतिवर्ष चार लाख बच्‍चे कैंसर से ग्रस्‍त होते हैं और प्रति तीन मिनट पर एक बच्‍चे की कैंसर से मौत हो जाती है।

डॉ टीआर यादव, सचिव, एलएपी

इंटरनेशनल चाइल्‍डहुड कैंसर डे (15 फरवरी) पर लखनऊ एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्‍स के सचिव डॉ टीआर यादव ने बताया कि प्रतिवर्ष बताते हैं कि बच्‍चों में कैंसर के लक्षण बहुत ही सामान्‍य होते हैं, इसलिए जरूरी है कि किसी भी तरह के लक्षण यदि बार बार हो रहे हैं तो उसे अनदेखा न करें और डॉक्‍टर को अवश्‍य दिखायें।

इस विषय में लखनऊ स्थित सुपरस्‍पेशियलिटी कैंसर इंस्‍टीट्यूट एवं सम्‍बद्ध अस्‍पताल की असिस्‍टेंट प्रोफेसर डॉ गीतिका पंत ने बच्‍चों में होने वाला कैंसर किस तरह आता है और इसका इलाज किस तरह किया जाता है। देखें वीडियो

देखें वीडियो : बच्‍चों में होने वाले कैंसर को कैसे पहचाने और कैसे करायें इलाज