Wednesday , August 17 2022

पहली जुलाई को कर्तव्‍यनिष्‍ठा की शपथ व देश की रक्षा का संकल्‍प लेंगे देश भर के कर्मचारी

-इप्‍सेफ के तत्‍वावधान में किया जायेगा कोरोना योद्धा कर्मचारियों का विशेष सम्‍मान भी

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। इंडियन पब्लिक सर्विस इंप्लाइज फेडरेशन (इप्सेफ) के तत्‍वावधान में आगामी पहली जुलाई को देश भर के कर्मचारियों को कर्तव्‍यनिष्‍ठा की शपथ दिलायी जायेगी, साथ ही पाकिस्‍तान व चीन के साथ हुए युद्ध में शहीद हुए सैनिकों को श्रद्धांजलि दी जायेगी, एवं देश की रक्षा के लिए संकल्‍प लिया जायेगा। इस मौके पर कोरोना मरीजों के उपचार में ड्यूटी करने वाले कर्मचारियों का विशेष सम्‍मान किया जायेगा।

यह जानकारी देते हुए इप्‍सेफ के राष्ट्रीय अध्यक्ष वी पी मिश्रा एवं महामंत्री प्रेमचंद्र ने यहां जारी विज्ञप्ति में देशभर के कर्मचारियों एवं कर्मचारी संगठनों से अपील की है कि वे कर्तव्यनिष्ठ बनकर आदर्श प्रस्तुत करें। भगवान श्री रामचंद्र जी एवं श्री कृष्ण जी ने भी पृथ्वी पर अवतार लेकर कहा था कि मुझे अपना कर्तव्य करना है, जिस लिए उन्होंने अवतार लिया है, उसे पूरा करना है।

वी पी मिश्र ने बताया कि 1 जुलाई को इप्सेफ द्वारा देश भर के कर्मचारियों से अपील की है कि स्वयं कर्तव्यनिष्ठ बन कर परिवार के प्रति, देश, समाज एवं सरकार के प्रति अपने दायित्व का पूरी ईमानदारी एवं निष्ठा से निर्वहन करें, जिससे कि जनता उनका सम्मान करे। उन्हें 1 जुलाई के दिन में 1:00 बजे इस बात की शपथ लेनी होगी हम ठीक होंगे तो समाज ठीक होगा परिवार में सुख शान्ति रहेगी।

प्रेमचंद्र ने कहा कि 1 जुलाई को 1 बजे इप्सेफ द्वारा कोरोना-19 के इलाज में अपनी जान जोखिम में डालकर मरीजों की सेवा में लगे कर्मचारियों, डॉक्टर, नर्सेज, लैब टेक्नीशियन, फार्मासिस्ट, प्रयोगशाला सहायक आदि पैरामेडिकल स्टाफ, वार्ड बॉय एवं सफाई कर्मचारी तथा इलेक्ट्रिशियन कम जनरेटर ऑपरेटर व अन्य तकनीकी कर्मचारियों को देशभर के अस्पतालों में प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जाएगा। उन्होंने केंद्र एवं राज्य की सरकारों से आग्रह किया है कि ऐसे कर्मचारियों को पुरस्कृत किया जाए जिससे उनका मनोबल बढ़े।

नेताद्वय ने कहा कि 1 जुलाई को ही चीन पाकिस्तान युद्ध में शहीद हुए योद्धाओं के प्रति 2 मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी और संकल्प लिया जाएगा कि देश भर के कर्मचारी देश की रक्षा में लगी सेना के साथ हैं और हर कुर्बानी देने को तैयार हैं।