अब फोकस सैम्‍पलिंग अभियान में होगी इन लोगों की कोविड जांच

-24 घंटों में यूपी में मिले 2390 नये कोरोना संक्रमित, 30 की मौत

-सर्वाधिक 294 नये मरीज लखनऊ में, राज्‍य में 21954 सक्रिय रोगी

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने कहा है कि फोकस सैम्पलिंग अभियान का दूसरा चरण कल 19 नवम्बर से 30 नवम्बर  तक कुल 12 दिन तक चलाया जायेगा। जिसमें 19, 20 तथा 21 नवम्बर को शहर के मलिन बस्तियों, 22 नवम्बर को अस्थायी/स्थायी जेलों में, 23 नवम्बर को बाल/बालिका सुधार गृह, 24 नवम्बर को वृद्धाश्रम व नारी निकेतन, 25 नवम्बर को रेहड़ी, पटरी दुकानदारों आदि, 26 नवम्बर को कक्षा 9 से 12 के शिक्षण कार्य में लगे शिक्षकों एवं अन्य स्टाफ की, 27 नवम्बर को सभी सरकारी/प्राइवेट कार्यालयों में, 28, 29 व 30 नवम्बर को बाजारों/साप्ताहिक बाजारों में काम करने वाले व्यक्तियों की फोकस सैम्पलिंग की जायेगी।

उन्‍होंने कहा कि फोकस सैम्पलिंग के माध्यम से कोविड संक्रमित लोगों की पहचान की जायेगी। उन्होंने बताया कि वृद्धजन, गर्भवती महिलाएं, छोटे बच्चों तथा पूर्व में किसी अन्य बीमारी से ग्रसित लोगों का विशेष ध्यान रखा जाये। संक्रमण से बचने के लिए मास्क के उपयोग नियमित हाथ धोने तथा उचित दूरी बनाये रखे। उन्होंने कहा कि कोरोना से उपचारित लोगों को यदि कोई समस्या हो तो उनके लिए पोस्ट कोविड केयर सेन्टर भी कार्य कर रहे है।

उन्‍होंने बताया कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,21,362 सैम्पल की जांच की गयी। प्रदेश में अब तक कुल 1,73,31,490 सैम्पल की जांच की गयी है। श्री प्रसाद ने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 2390 नये मामले आये हैं। इस दौरान राज्‍य में 30 लोगों की मौत हुई है। राजधानी लखनऊ में सबसे ज्‍यादा 294 केस मिले हैं, यहां 6 लोगों की मौत हुई है। प्रदेश में 21,954 कोरोना के एक्टिव मामले हैं। होम आइसोलेशन में 9,672 लोग हैं। उन्होंने बताया कि निजी चिकित्सालयों में 2163 लोग ईलाज करा रहे हैं, इसके अतिरिक्त बाकी मरीज एल-1, एल-2 तथा एल-3 के सरकारी अस्पतालों में अपना ईलाज करा रहे है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में विगत 24 घंटे में कोविड-19 से उपचारित हो कर 2529 डिस्चार्ज हुए है। अब तक कुल 4,87,221 कोविड-19 से ठीक होकर पूर्ण उपचारित हो चुके हैं। प्रदेश में कोविड-19 रिकवरी रेट 94.31 प्रतिशत हो गया है। ई-संजीवनी के माध्यम से 24 घंटे में 3263 चिकित्सीय परामर्श लिए है। अब तक कुल 2 लाख 15 हजार से अधिक लोग चिकित्सीय परामर्श ले चुके है।