लोहिया संस्‍थान में मेडिकोज को पढ़ाया गया चिकित्‍सा व्‍यवसाय एवं कर्मयोग का पाठ

-स्‍वामी विवेकानंद के विचारों पर चर्चा के साथ लिया गया खिचड़ी का आनंद
-सांस्‍कृतिक मंच व नेशनल मेडिको संगठन के संयुक्‍त तत्‍वावधान में हुआ आयोजन

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। डा0 राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान के सांस्कृतिक मंच एवं नेशनल मेडिको संगठन (आर0एम0एल0 इकाई) के संयुक्त प्रयास से राष्ट्रीय युवा दिवस के उपलक्ष्य एवं मकर संक्रान्ति के पावन पर्व पर आज 15 जनवरी को संस्थान के एकेडमिक ब्लॉक में छात्रों हेतु व्याख्यान प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस प्रतियोगिता में ’’स्वामी विवेकानन्द का जीवन एवं कर्मयोग’’ तथा ’’चिकित्सा व्यवसाय एवं कर्मयोग’’ विषयों पर छात्रों द्वारा व्याख्यान प्रस्तुत किया गया।

इस कार्यक्रम का उद्देश्य संस्थान के छात्रों, जो आज के युवा भी है को स्वामी विवेकानन्द के आध्यत्मिक, राष्ट्रवाद एवं स्पष्टवादी विचारों से परिचित कराना था। कर्मयोग-अनाशक्त विषय पर चर्चा हुयी जिसका प्रयोजन छात्रों में (भविष्य के चिकित्सक) निःस्वार्थ भाव से कार्य करने के लिए प्रेरित करना था। छात्रों द्वारा प्रण लिया गया कि वह कर्मयोग को अपने जीवन में आत्मसात करेंगे।

कार्यक्रम में संस्थान के निदेशक प्रो0 ए0के0 त्रिपाठी, रजिस्ट्रार प्रो0 राजन भट्नागर, मनोज, संकाय सदस्य एवं छात्र उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन डा0 विक्रम सिंह, सह-आचार्य द्वारा किया गया। इस अवसर पर खिचड़ी भोज का भी आयोजन किया गया।