Thursday , December 1 2022

विद्यार्थियों को शिक्षा ही नहीं, संस्‍कार भी दे रहा है महर्षि विश्‍वविद्यालय

विवि की पांचवीं वर्षगांठ और प्रथम उपाधि वितरण समारोह गुरुवार को

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। हम अपने विश्वविद्यालय में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को सिर्फ शिक्षा ही नहीं, बल्कि संस्कार भी देते हैं, वे संस्कार जिनका बदलते जमाने में तेजी से ह्रास हो रहा है।

यह बात यहां महर्षि सूचना प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के महानिदेशक प्रोफेसर कैप्टन ओपी शर्मा ने पत्रकारों से बात करते हुए कही। पत्रकार वार्ता का आयोजन विश्वविद्यालय के प्रथम उपाधि वितरण समारोह के बारे में जानकारी देने के लिए किया गया था। यह समारोह 1 अगस्‍त को आयोजित किया जा रहा है। उन्होंने बताया के 5 साल पहले 1 अगस्त को लखनऊ स्थित महर्षि सूचना प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय की शुरुआत हुई थी। उन्होंने बताया कि आजकल बच्चे पैसा कमाने की मशीन बन गये हैं इसमें दोष उन बच्चों का नहीं है, जिन परिस्थितियों में वे पल-बढ़ रहे हैं, उनका है। उन्होंने कहा कि अक्सर घरवाले किसी मेहमान के आने पर बच्चे को अलग कमरे में पढ़ने के लिए भेज देते हैं, उन्हें मेहमानों से मिलवाते तक तक नहीं। यही बच्चे धीरे-धीरे एकाकीपन के आदी हो जाते हैं और बड़े होकर अकेलापन महसूस करते हैं उनमें निर्णय लेने की क्षमता कम होती है। ऐसे में अगर हम दोष बच्चों को दें तो यह उचित नहीं होगा।

उन्होंने बताया कि हमारे विश्वविद्यालय में दो समय सुबह 9:50 से 10:10 तक तथा अपराह्न 3:50 से 4:10 तक तक बच्चों तथा शिक्षकों सभी को मेडिटेशन कराया जाता है। उन्होंने बताया इसका नतीजा यह होता है कि बच्चे और शिक्षक सभी ऊर्जावान रहते हैं और उनमें सकारात्मकता के भाव और प्रबल हो जाते हैं।उन्होंने बताया कि अगले साल से हम यह प्रयास कर रहे हैं कि प्रतिभावान बच्चों को छात्रवृत्ति दी जाए।

विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर भानु प्रताप सिंह ने बताया कि प्रथम उपाधि वितरण समारोह में 182 बच्चों को डिग्री प्रदान की जाएगी उन्होंने बताया कि 24 विद्यार्थियों को बेस्ट परफॉर्मर के रूप में चुना गया है। विश्‍वविद्यालय के कुलसचिव प्रो अखंड प्रताप सिंह ने बताया की विश्वविद्यालय द्वारा दी जा रही डिग्री को इस तरह से तैयार किया गया है कि इसकी फर्जी डिग्री न बन सके। इसके लिए इसमें कई सिक्योरिटी फीचर्स का उपयोग किया गया है। उन्होंने बताया इसमें एक क्यूआर कोड दिया गया है जिसमें विद्यार्थी की सभी जानकारी देखी जा सकती हैं।

उन्होंने बताया कि इस डिग्री पर कुलपति, कुलसचिव, डीन, परीक्षा नियंत्रक तथा क्लर्क के इनीशियल्‍स (हस्ताक्षर) का प्रावधान रखा गया है। विश्वविद्यालय के प्रोफेसर एवं नोडल अफसर इलेक्ट्रॉनिक एंड प्रिंट मीडिया सपन अस्थाना ने विश्वविद्यालय द्वारा राष्ट्रीय सेवा योजना के तहत किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी उन्होंने बताया कि उन्नत भारत अभियान के तहत पांच गांवों को चुना गया है। पत्रकार वार्ता में प्रोग्राम के कन्वीनर एचके द्विवेदी भी उपस्थित थे।