इन्होंने गरीब बच्चों के घरों में ढूंढ़ी दीपावली की खुशियाँ

रोटी कपड़ा फाउंडेशन ने खाना, कपड़ा के साथ ही बांटे उपहार 

 

लखनऊ.  दीपावली के दिन अपने घरों को रौशनी से जगमगाने के दौरान शायद ही हम यह सोचते हों कि   हमारे समाज का एक हिस्सा आज भी गरीबी के अंधेरे में घुटते हुए दो जून की रोटी के जुगाड़ में लगा हुआ है, और दीवाली हो या होली, त्यौहार उनका भी है.

मगर इससे इतर एक तस्वीर यह भी है कि, इसी समाज के कुछ जागरूक लोग अपने असहाय भाइयों के घरों में भी दीवाली की रोशनी पहुंचाने में लगे हुए हैं। गोमतीनगर विस्तार के ओमेक्स आर-1 के निवासियों द्वारा चलाए जा रहे रोटी कपड़ा फाउंडेशन की तरफ से आज गोमतीनगर विस्तार की मलिन बस्ती में दीपावली सेलेब्रेशन का आयोजन किया गया। जिसमें रोटी कपड़ा फाउंडेशन ने गरीबों के बीच खाना और कपड़ा बांटने के साथ ही दीवाली मनाने के सामान जैसे मिठाई, दीये और पटाखे भी बांटे।

कार्यक्रम के दौरान लगभग 150 गरीब जरूरतमंदों को संस्था की ओर से खाद्य वस्तुएं जैसे, रोटी-सब्जी, ब्रेड, बिस्कुट और पैकेटबंद खाद्य पदार्थ सहित कपड़ों का भी वितरण किया गया। इस अवसर पर रोटी कपड़ा फाउंडेशन ने शारदा सोसाइटी के सहयोग से गरीब बच्चों के लिए निशुल्क शिक्षा कार्यक्रम का शुभारम्भ भी किया। रोटी कपड़ा फाउंडेशन के संस्थापक आशुतोष चौबे ने बताया कि, हमारा मकसद सिर्फ इन गरीबों को भोजन उपलब्ध कराना नहीं बल्कि हमारी कोशिश है कि हम इन्हें इतना आत्मनिर्भर बना सकें कि यह अपनी रोटी खुद कमा सकें। इसी के लिए बच्चों को शिक्षित करने की दिशा में आज हमारा यह पहला कदम है।

कार्यक्रम के दौरान संस्था की शोभा ठाकुर,  अभय जोशी,  शिवानी ठाकुर और शुभ ठाकुर, सरिता सिंह, शालिनी चौबे, अमित पांडे, पुष्पा शर्मा, वसुधा, अंजली और कविता सिंह भी ने लोगों के बीच कपड़ों और खाने का वितरण किया।