जानिये, क्‍यों होती हैं टॉयलेट में हार्ट फेल होने से हृदयरोगी की मौत

वरिष्‍ठ कार्डियोलॉजिस्‍ट डॉ राकेश सिंह की ‘सेहत टाइम्‍स’ से विशेष वार्ता

धर्मेन्‍द्र सक्‍सेना

लखनऊ। आपने ऐसे कई केस सुने होंगे कि हृदय रोगी की टॉयलेट में ही मृत्‍यु हो गयी। जाहिर है इसका कारण हृदय रोगी का हार्ट फेल होने के रूप में सामने आता है, लेकिन हार्ट फेल होने के पीछे का एक बड़ा कारण व्‍यक्ति का कब्‍ज का रोगी रहना है।

 डॉ राकेश सिंह

इस बारे में वरिष्‍ठ कार्डियोलॉजिस्‍ट डॉ राकेश सिंह ने ‘सेहत टाइम्‍स’ से विशेष बातचीत में बताया कि दरअसल जिन हृदय रोगियों को कब्‍ज की शिकायत होती है, उन्‍हें शौच आसानी से नहीं होती है, इसलिए बहुत से लोग इसके लिए जोर लगाते हैं। डॉ राकेश ने बताया कि व्‍यक्ति जब शौच के लिए जोर लगाता है तो उसकी खून की नलियां सिकुड़ती हैं, ऐसे में हृदय रोगी, जो पहले से ही खून की नलियों के सिकुड़ने का शिकार रहता है, की रक्‍त वाहिनियां और सिकुड़कर खून की सप्‍लाई में बाधा पहुंचाती हैं जिस कारण हार्ट फेल हो जाता है।

डॉ राकेश सिंह ने कहा कि शौच के लिए बहुत जोर लगाना तो किसी के लिए भी उचित नहीं है ले‍किन हृदय रोगी इसका विशेष ध्‍यान रखें। उन्‍होंने कहा कि कब्जियत दूर कर पेट को साफ रखने के लिए ईसबगोल की भूसी या अन्‍य इसी प्रकार की पेट साफ करने वाली औषधि जिसकी सलाह डॉक्‍टर दें, रात में ले सकते हैं जिससे सुबह पेट आसानी से साफ हो जाये।