रमज़ान में इस तरह रखें खान -पान एवं सेहत का ध्यान

-होम्‍योपैथिक विशेषज्ञ डॉ अनुरुद्ध वर्मा की सलाह

डॉ अनुरुद्ध वर्मा

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। माहे रमज़ान की शुरुआत इस बार ऐसे समय पर हुई है जब कोविड-19 महामारी के चलते पूरे देश में लगभग एक माह से लॉकडाउन लागू है। भीषण गर्मी एवं धूप के इस मौसम में रोज़ेदारों को अपनी सेहत पर विशेष ध्यान देने की ज़रूरत है।

यह बात वरिष्ठ होम्योपैथिक चिकित्सक एवं केंद्रीय होम्योपैथी परिषद के सदस्य डॉ अनुरुद्ध वर्मा ने कही है। डॉ वर्मा ने बताया कि रोज़ेदारों को अपने खान-पान, आहार-विहार एवम स्वास्थ्य के प्रति ज्यादा सज़ग रहना होगा तथा उन्‍हें कोरोना बीमारी से बचने के लिए घर में ही रह कर इबादत एवं नमाज़ अदा करना चाहिये।

उन्होंने बताया कि शरीर की  रोग  प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाये एवं बनाये रखने के लिए रोजेदारों को अपने भोजन में पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी युक्त फलों जैसे नीबूं,संतरा,मौसमी,नारंगी के साथ मौसमी फलों, साबुत अनाज, शर्बत, फलों का रस,दूध, लस्सी, दही को भी पर्याप्त मात्रा में शामिल करना चाहिए।

उन्होंने  कहा कि जहां तक संभव हो गर्भवती एवं दूध पिलाने वाली महिलाओं, अशक्त एवं गंभीर बीमार, बुजुर्गों, अनियंत्रित मधुमेह तथा उच्च रक्तचाप के रोगियों, बच्चों एवं कमज़ोर प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्तियों को रोजे रखने से बचना चाहिए। उन्होंने रोजेदारों को अपनी दवाओं को नियमित रूप से लेते रहने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि इस भीषण गर्मी में शरीर में पानी एवं लवणों आदि की कमी न हो इसके लिए पर्याप्त पानी पीना चाहिए तथा इफ्तार एवम सहरी में नीबू-पानी, शरबत, शिकंजी, तरबूज, खीरा, ककड़ी, केला का भरपूर सेवन करना चाहिए तथा कोशिश करना चाहिये कि सहरी और इफ्तार में मिलाकर लगभग कम 3-4 लीटर पानी कि अवश्य पीयें। उन्होंने कहा कि खजूर अवश्य  खाना चाहिए क्योंकि उसमें पर्याप्त ऊर्जा,पोटैशियम एवं अन्य पोषक तत्वों के साथ-2 फाइबर भी होते हैं।

उन्होंने कहा कि घी, तेल, मसालों, ज्यादा नमक वाली चीजों एवं कोर्बोनेटेड पेय जैसे कोल्ड ड्रिंक आदि पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि यह सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि रोजा खोलते समय शिकंजी-नींबू,चीनी एवम पानी का प्रयोग अवश्य करना चाहिए। उन्होंने खुले, हवादार कमरें में रहने और शारीरिक क्रियाकलापों, व्यायाम, प्राणायाम, योग आदि नियमित रूप से करने की सलाह दी।

उन्होंने रमज़ान माह में कोरोना महामारी से बचने के लिए मास्क लगाने, घरों में ही रहने घर मे ही इबादत करने, बार-बार साबुन से  हाथ धोने या अल्कोहलयुक्त सेनेटाइजर का प्रयोग करने, शारीरिक दूरी बनाए रखने और सदा सकारात्मक सोचने की सलाह दी।