यह प्राकृतिक है और इसी से चल रही है सृष्टि, खुलकर बात करें…

इग्‍नू और समर्थ के संयुक्‍त तत्‍तावधान में आयोजित किया गया माहवारी में स्‍वच्‍छता जागरूकता कार्यक्रम

लखनऊ। माहवारी को लेकर महिलाओं को जागरूक करने की दिशा में किये जा रहे प्रयासों के क्रम में इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय, क्षेत्रीय केन्द्र, (इग्‍नू) लखनऊ एवं सोसायटी फॉर एडवांसमेंट ऑफ रिसोर्सलेस वाय ट्रेनिंग एण्ड हैण्ड होल्डिंग (समर्थ)  लखनऊ के संयुक्त तत्वावधान में क्षेत्रीय केन्द्र के सभागार में आज 27 मई को मासिक स्वच्छता जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। उद्बोधनों के साथ ही नाटक के जरिये महिलाओं को यह समझाने की कोशिश की गयी कि माहवारी होना कोई जुल्‍म नहीं है, यह प्राकृतिक है, और इसी से सृष्टि चल रही है। इस बारे में लोगों को खुलकर बात करनी चाहिये।

 

आपको बता दें कि इस कार्यक्रम का उद्देश्‍य शहरी एवं ग्राम बस्तियों में निवास कर रही महिलाओं, युवतियों एवं जनमानस को मासिक स्वच्छता से जुड़ने के लिए प्रेरित करना तथा मासिक से जुड़ी हुयी भ्रान्तियों के विषय में जानकारी देना था। इस कार्यक्रम में लगभग 150 विद्यार्थियों एवं अंगीकृत ग्राम की महिलाओं ने भाग लिया। विषय विशेषज्ञ के रूप में वीरांगना अवन्तीबाई महिला जिला चिकित्सालय के चिकित्सक डॉ सलमान खान उपस्थित रहे।

 

डॉ कीर्ति विक्रम सिंह, सहायक क्षेत्रीय निदेशक इग्‍नू ने अपने उद्बोधन में बताया कि मासिक स्वच्छता अपनाकर महिलायें एक स्वस्थ जीवन जी सकती हैं और दूसरों को भी जागरूक कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय अपने राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवकों के माध्यम से मासिक स्वच्छता जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन समय-समय पर करता रहता है। उन्होंने यह भी बताया कि ग्रामीण महिलायें स्वयं सहायता समूह के माध्यम से कम लागत में सेनेटरी पैड बनाकर स्वरोजगार कर सकती हैं।

 

डॉ मनोरमा सिंह, क्षेत्रीय निदेशक इग्‍नू ने अपने उद्बोधन में कहा कि महिला सशक्तिकरण तभी सम्भव होगा, जब हर ग्रामीण एवं शहरी महिला अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक हो और यह जिम्मेदारी परिवार पुरुष सदस्यों की भी है कि वे अपनी बेटियों-बहनों को स्वास्थ्य शिक्षा लेने के लिए प्रेरित करें जिनसे वे हर परिस्थिति में अपना जीवन यापन कर सकें। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय केन्द्र द्वारा एक सेनेटरी पैड वेण्डिग मशीन क्षेत्रीय केन्द्र में स्थापित की गयी है, जिसका उपयोग महिला विद्यार्थी आवश्यकता पड़ने पर कर सकती हैं।

डॉ सलमान खान, बाल एवं महिला रोग विशेषज्ञ, वीरांगना अवन्तीबाई महिला जिला चिकित्सालय ने विद्यार्थियों को मासिक स्वच्छता से सम्बन्धित भ्रान्तियों के विषय में अवगत कराया एवं महिलाओं को स्वस्थ जीवन जीने के तरीकों के बारे में विस्तार से बताया।

 

डॉ प्रवेश द्विवेदी, सचिव, समर्थ ने बताया कि संस्था इग्नू के सहयोग से लखनऊ के ग्रामीण इलाकों में शिक्षा एवं स्वास्थ्य के विषय में लोगों को जागरूक कर रही है। संस्थान द्वारा लगभग 500 किशोरियों को मासिक स्वच्छता के बारे में शिक्षित किया गया है, जो अब आगे अन्य क्षेत्रों की बालिकाओं को मासिक स्वच्छता के विषय में जागरूक करेंगी।

 

इस कार्यक्रम के अन्तर्गत समुदाय की बालिकाओं ने एक नाट्क का भी मंचन किया गया जिसका विषय था, ‘‘माहवारी के प्रति जागरूकता’’। नाटक के अन्त में यह संदेश दिया गया कि माहवारी कोई जुल्म नहीं है यह प्राकृतिक है और इसी से सृष्टि चल रही है। इसलिए इसके बारे में खुलकर बात करनी चाहिए।