चिकित्‍सा क्षेत्र में सूचना एवं संचार तकनीक के महत्व पर व्‍याख्‍यान देंगे इटली के विशेषज्ञ

केजीएमयू के सर्जरी विभाग के 107वें स्‍थापना वर्ष पर छह दिन चलेंगे व्‍याख्‍यान एवं शैक्षिक कार्यक्रम

लखनऊ। विभिन्‍न प्रकार की सर्जरी की अनेक शाखाओं को जन्‍म देने वाले बूढ़े पेड़ की माफि‍क खड़ा किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍व विद्यालय का जनरल सर्जरी विभाग (जनरल)  अगले सप्‍ताह अपना 107वां स्थापना वर्ष मना रहा है। इस अवसर पर एक सप्ताह का शैक्षिक कार्यक्रम (11 से 16 फरवरी) पर आयोजित किया जायेगा, कार्यक्रम में दो व्याख्यान व एक विशिष्ट अतिथि सम्भाषण सम्मिलित किये गये हैं।

 

यह जानकारी देते हुए पत्रकार वार्ता में विभागाध्‍यक्ष प्रो एए सोनकर ने बताया कि शैक्षिक कार्यक्रम का आयोजन सर्जरी विभाग तथा कन्वेन्शन सेन्टर में किया जा रहा है। आयोजन सचिव डॉ संजीव कुमार ने बताया कि उद्घाटन समारोह 16 फरवरी को कन्वेन्शन सेन्टर में दोपहर 11 बजे आयोजित किया जायेगा। उन्‍होंने बताया कि सेन्टर इंटरनेशनल को-ऑपरेशन यूनिवर्सिटी पाविया, इटली के प्रेसीडेंट प्रो0 जियान बटिस्टा परिजी, प्रो एससी मिश्रा व्याख्यान देंगे तथा इनका विषय  Information and Communication Technology in Medical Education पर होगा। इसी प्रकार प्रो0 गुरप्रीत सिह पीजीआईएमईआर चन्डीगढ़ Breast conserving surgery-current status  विषय पर प्रो पीसी दुबे व्‍याख्‍यान देंगे, जबकि एम्‍स दिल्‍ली के प्रो0 राजेन्द्र प्रसाद Laparoscopic management of Achalasia cardia  विषय पर प्रो0 टीसी गोयल गेस्ट लेक्चर देंगे।

 

प्रो सोनकर ने बताया कि केजीएमयू के कुलपति, प्रो एमएलबी भट्ट कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे और पूर्व कुलपति प्रोफेसर डीके गुप्ता (डायरेक्टर एवं सीईओ, सुपर स्पेशियलिटी बाल चिकित्सालय एवं स्नातकोत्तर शैक्षणिक संस्थान नोएडा), मुख्य अतिथि होंगे। सर्जरी विभाग (जनरल), अपना 107वां स्थापना दिवस के कार्यक्रम में दो व्याख्यान व एक विशिष्ट अतिथि सम्भाषण सम्मिलित किये गये हैं।

 

आपको बता दें कि शल्य चिकित्सा विभाग छह इकाइयों में कार्य कर रहा है, तथा प्रत्येक यूनिट जनरल सर्जरी के अलावा अपनी विशिष्ट सर्जरी भी कर रही है। जिसमें लैप्रोस्कोपिक सर्जरी, हेड एंड नेक सर्जरी एवं कोलोरेक्टर सर्जरी,  ऑन्‍को सर्जरी, थोरैसिक सर्जरी, बेरियाट्रिक सर्जरी, वैस्कुलर सर्जरी नियमित रूप से विभाग में संचालित की जा रही है। इस वर्ष विभाग में दूरबीन विधि से सर्जरी में नए आयाम प्राप्त किए जिनमें उत्‍तर प्रदेश में पहली बार दूरबीन विधि से Pancreatic cancer के लिए व्हिपलेस सर्जरी का प्रारम्भ जनरल सर्जरी विभाग से ही हुआ।

 

विभागों में एमआरसीएस परीक्षा एक का दो बार की परीक्षाएं सफलता पूर्वक सम्पादन सर्जरी विभाग में प्रोफेसर अभिनव अरुण सोनकर की देखरेख में सम्पन्न हुआ। इस वर्ष की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार ओपीडी (वाहय रोगी विभाग) में कुल 65737 से अधिक रोगियों का इलाज हुआ । वहीं 9850  से ज्यादा शल्य चिकित्सा विभाग के विभिन्न आपरेशन थियेटरों में सम्पन्न हुई। जो कि पिछले वर्ष की तुलना में अधिक है। संकाय सदस्यों एवं विभाग में प्रशिक्षण के लिए इण्डोट्रेनिंग स्किल लैब की क्रियान्वित है। इस स्थापना दिवस के सुअवसर पर नर्सिंग तकनीकी व गैर तकनीकी स्टाफ, को उनकी सेवाओं व कार्य के लिए सम्मानित किया जायेगा।

 

इस समारोह में चिकित्सा विश्वविद्यालय के अनेक विभागों के चिकित्सक, छात्र-छात्राएं, नर्सेज व कर्मचारी सम्मिलित होंगे। स्‍थापना दिवस के मौके पर 11 फरवरी से 16 फरवरी तक एक सर्जिकल शिक्षा सप्ताह का आयोजन होने जा रहा है जिसमें राज्य और राष्ट्रीय मेडिकल कालेजों के सर्जरी विभाग के डॉक्टर व करीब 100 जूनियर रेजीडेण्टों का सम्मिलित होना अपेक्षित है।