नर्सिंग पेशे को सफल बनाने के लिए नेतृत्‍व के गुणों को पहचानना जरूरी : कुलपति

केजीएमयू में नर्सेस इन हेल्थ केयर लीडरशिपपर वीडियो कॉन्‍फ्रेंस आयोजित

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो                                                         

लखनऊ। किंग जॉर्ज मेडिकल विश्वविद्यालय के कुलपति लेफ्टिनेंट जनरल डॉ बिपिन पुरी ने कहा है कि नर्सिंग पेशा स्वास्‍थ्‍य प्रणाली की रीढ़ है।  कोविड महामारी वर्ष 2020 के दौरान नर्सों का अति महत्वपूर्ण योगदान रहा,  उन्होंने नर्सिंग पेशे को सफल बनाने के लिए नेतृत्व के गुणों को पहचानने और अधिक विकसित करने के लिए कहा।

कुलपति ने यह विचार मुख्‍य अतिथि के रूप में केजीएमयू में कॉलेज ऑफ नर्सिंग द्वारा ‘नर्सेस इन हेल्थ केयर लीडरशिप’ विषय पर कलाम सेंटर में आयोजित नेशनल वर्चुअल वीडियो कॉन्फ्रेंस में व्‍यक्‍त किये।  समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में डॉ टी.दिलीप कुमार, प्रेसिडेंट, इंडियन नेशनल काउन्सिल, नई दिल्ली शामिल रहे।

कुलपति ने बताया विश्व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन द्वारा वर्ष 2020 को फ्लोरेंस नाईटिंगल की 200वीं जयंती के अवसर पर “द ईयर आफ द नर्स एंड मिड वाइव्स “ के रूप में घोषित किया गया है। उन्होंने नर्सिंग पेशे के विकास के लिए मुख्य रूप से दूरदर्शी नेतृत्व ,साझेदारी, लचीलापन, उपलब्धि एवं समावेशी होना बताया। कुलपति ने विश्वास जताया कि आज इस मंच पर उपस्थित असाधारण संकाय विशेषज्ञों के अनुभवों से नर्सों के नेतृत्व का ज्ञान और समृद्ध होगा।

इस अवसर पर विशिष्‍ट अतिथि डॉ टी.दिलीप कुमार, प्रेसिडेंट, इंडियन नेशनल काउन्सिल, नई दिल्ली ने बताया की हम नर्सिंग पेशे में और अधिक ध्यान देने को प्रतिबद्ध है ताकि इनकी कमी न हो। उन्होंने कहा देश के प्रति असीम करुणा एवं सेवा के योगदान के लिए वे सभी नर्सों की सराहना करते हैं। उन्होंने यह भी बताया की नर्सों की दृढ़ इच्छा शक्ति ने, न केवल समाज के स्वास्थ्‍य का खयाल रखा बल्कि कोविड जैसी महामारी से भी लड़ने के लिए उत्साहवर्धन किया।

इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से सह-अधिष्ठाता कॉलेज ऑफ नर्सिंग,  किंग जार्ज मेडिकल विश्वविद्यालय प्रो पुनीता मानिक, प्रिंसिपल, कॉलेज ऑफ नर्सिंग रश्मि पी0जॉन,  असिस्‍टेंट प्रोफेसर सुधा मिश्रा एवं छात्र– छात्राएं उपस्थिति रहे। कार्यक्रम की व्यवस्था असिस्‍टेंट प्रोफेसर रोहिताश कुमार, एवं क्लिनिकल इंस्ट्रक्टर जी श्रीनिवासन द्वारा की गयी |