आईसीयू में भर्ती मरीज की जांच अल्‍ट्रासाउंड से करना ज्‍यादा उपयोगी

केजीएमयू में आईसीयू में अल्ट्रासाउण्ड की उपयोगिता विषय पर कार्यशाला का आयोजन  

 

लखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के एनेस्थीसिया विभाग द्वारा कलाम सेंटर मे ‘आईसीयू में अल्ट्रासाउण्ड की उपयोगिता’ विषय पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया।

 

इस अवसर पर कार्यक्रम के निदेशक केजीएमयू के एनेस्थीसिया विभाग के डॉ जीपी सिंह ने इस कार्यशाला को आयोजित किए जाने के उद्देश्य के बारे में बताते हुए कहा कि कई बार यह जांच एक्स-रे, सीटी स्कैन से ज्यादा उपयोगी साबित होती है और इस जांच के दौरान मरीज को रेडियेशन से होने वाला नुकसान भी नहीं होता तथा रक्त की जांच किए बिना ही बीमारी की पहचान करने में  मददगार होती है।

 

इस अवसर पर कार्यशाला के आयोजन सचिव एवं केजीएमयू एनेस्थीसिया विभाग के चिकित्सक डॉ जिया अरशद ने बताया कि इस अल्ट्रासाउण्ड के माध्यम से मरीज के फेफड़े, पेट एवं शरीर के अन्य अंगों से संबंधित बीमारी के बारे में जानकारी आसानी से प्राप्त की जा सकती है।

 

इस अवसर पर मैक्स सुपरस्पेशियलिटी हॉस्पिटल, नई दिल्ली के डॉ मनीष कुमार सिंह,  डॉ आलोक गुप्ता,  डॉ पुनीत तथा डॉ शमीक भट्टाचार्य ने आईसीयू में यह जांच मरीजों के लिए कितनी उपयोगी साबित हो सकती है और उसकी वरीयता के बारे में विस्तार से चर्चा की। इसके साथ ही मैक्स सुपरस्पेशियलिटी हॉस्पिटल, नई दिल्ली से आए इन सभी चिकित्सकों ने मरीज पर इस जांच का लाइव डिमॉन्‍सट्रेशन किया।