आईएमए ने कहा, जैसे शिक्षक दिवस मनाती है सरकार, वैसे ही मनाये चिकित्‍सक दिवस

-आईएमए यूपी के अध्‍यक्ष डॉ अशोक राय ने ट्वीट कर की मुख्‍यमंत्री से मांग

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) उत्तर प्रदेश ने उत्‍तर प्रदेश की योगी सरकार से मांग की है कि 1 जुलाई को होने वाला डॉक्टर्स डे सरकारी स्तर पर उसी प्रकार मनाया जाना चाहिए जिस प्रकार शिक्षक दिवस मनाया जाता है।

आई एम ए यूपी के अध्यक्ष डॉ अशोक राय ने अपने टि्वटर हैंडल पर लिखा है कि राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस 1991 में घोषित किया गया था इस दिवस को डॉक्टरों को सम्मान देने के लिए मनाया जाता है उन्होंने कहा मेरी राज्‍य सरकार से अपील है कि जिस प्रकार 5 सितंबर को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है उसी प्रकार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 1 जुलाई को डॉक्टर दिवस सरकारी स्तर से मनाने पर विचार करें।

कोरोना काल में हो यह पहल तो बढ़ेगा मनोबल

इस दिन को सरकारी स्तर पर मनाने की मांग करते हुए आईएमए लखनऊ के पूर्व अध्यक्ष डॉक्टर पीके गुप्ता ने कहा कि निजी और सरकारी क्षेत्र के डॉक्टरों की सेवाओं को देखते हुए केंद्र सरकार ने 1991 में 1 जुलाई को डॉक्टर्स डे मनाने का ऐलान किया था। उन्होंने कहा कि आईएमए इस दिवस को डॉक्टरों को सम्मान देने के लिए मनाता आया है। उन्‍होंने कहा कि क्योंकि स्वास्थ्य राज्य का विषय है, इसलिए उचित होगा कि प्रदेश सरकार इस दिवस के लिए सरकारी स्‍तर पर आधा दिवस आवंटित करते हुए आधिकारिक तरीके से मनाने की घोषणा करें।

उन्होंने कहा कि वर्तमान में चल रहा कोरोना काल हो या फिर अन्य आपदा, हमेशा चिकित्सकों ने अपनी जिम्मेदारियों को निभाते हुए अपनी सेवाओं को 24 घंटे सातों दिन जारी रखा है। उन्‍होंने कहा कि केंद्र सरकार हो या राज्‍य सरकार, उन्‍होंने भी इस कोरोना काल में चिकित्‍सकों की सेवाओं को देखते हुए सराहना की है, देश भर में एक निश्चित समय पर ताली और थाली बजाकर चिकित्‍सकों का हौसला बढ़ाया है, ऐसे में यदि राज्‍य सरकार इस साल से ही पहली जुलाई को आधिकारिक रूप से डॉक्‍टर्स दिवस मनाने की पहल करती है, तो इससे चिकित्‍सकों के मनोबल में अवश्‍य ही वृद्धि होगी।