Wednesday , August 17 2022

विश्‍व की सबसे बड़ी मेडिकल प्रोफेशनल एसोसिएशन है आईएमए

-चार लाख सदस्‍यों वाली आईएमए से चुने गये दो बार वर्ल्‍ड मेडिकल एसोसिएशन के अध्‍यक्ष

-आईएमए लखनऊ ने आयोजित की स्टेट लेवल रिफ्रेशर कोर्स एवं सीएमई

-विभिन्‍न रोगों को लेकर 27 विषयों पर अलग-अलग चिकित्सकों ने  दिया प्रस्‍तुतिकरण

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) विश्‍व की सबसे बड़ी मेडिकल प्रोफेशनल एसोसिएशन है, इसमें चार लाख चिकित्‍सक सदस्‍य हैं। विश्‍व मेडिकल एसोसिएशन के दो बार अध्‍यक्ष भारतीय रहे हैं। कोविड से निपटने में पिछले दो वर्षों में भारत ने जो उपलब्धि हासिल की है उस उपलब्धि के आगे अमेरिका जैसे साधन सम्‍पन्‍न देश भी पीछे रह गये हैं।    

यह बात आज यहां रिवर बैंक कॉलोनी स्थित आईएमए भवन में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की लखनऊ शाखा द्वारा आज 27 मार्च को स्टेट लेवल रिफ्रेशर कोर्स एवं एक वृहद सतत चिकित्‍सा शिक्षा (सीएमई) कार्यक्रम में आईएमए-एएमएस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं केजीएमयू के रेस्पिरेटरी मेडिसिन के विभागाध्यक्ष डॉ. सूर्य कान्त ने मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होते हुए अपने सम्‍बोधन में कही।  

उन्होंने कहा कि‍ भारत ने दुनिया में सबसे जल्दी दो से भी ज्यादा वैक्सीन दुनिया को खोज कर देने का काम किया है, साथ ही कई ऐसी चीज़ें जैसे पीपीई किट, वेंटीलेटर एवं एन-95 मास्क इत्यादि जिनका पहले देश में उत्पादन नहीं होता था, का महामारी के दौरान रिकॉर्ड उत्पादन किया। उन्‍होंने कहा कि जिस लैब में कोविड की जांच की जाती है, वैसी लैब पहले भारत में सिर्फ एक थी आज 3000 से ज्‍यादा संख्‍या में लैब कार्य कर रही हैं।

अस्‍पताल खोलना हो या विस्‍तार करना हो, सरकार दे रही लोन

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि इंडियन बैंक समूह के एजीएम पंकज त्रिपाठी रहे। उन्होंने कहा कि हमारे देश के चिकित्सकों ने महामारी के दौरान महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिसके लिए वे बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि‍ भारत सरकार ने चिकित्सा व्यवस्थाओं को निजी क्षेत्र में मजबूत करने के लिए तमाम ऐसी स्कीमें निकाली हैं जिनसे अस्पतालों को अपग्रेड करने से लेकर नए अस्पतालों का निर्माण करने के लिए आसानी से लोन उपलब्ध कराये जा रहे हैं।

कार्यक्रम में आईएमए लखनऊ के अध्यक्ष डॉ. मनीष टंडन ने कहा कि‍ स्टेट लेवल रिफ्रेशर कोर्स एवं सीएमई से चिकित्सक समुदाय को चिकित्सा क्षेत्र में आये दिन आ रहे नए बदलावों के बारे में जानकारी होती है जिससे जनमानस का फायदा होता है। आईएमए लखनऊ सचिव डॉ संजय सक्सेना ने सभी चिकित्सकों को इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए बधाई दी। उन्होंने जानकारी दी कि पूरे दिन चले इस कार्यक्रम में लगभग 27 विषयों पर अलग-अलग चिकित्सकों द्वारा अपना प्रस्‍तुतिकरण दिया गया। उन्होंने कहा कि आईएमए लखनऊ द्वारा प्रति वर्ष एक बार इस कार्यक्रम का आयोजन किया जाता रहा है, और भारी मात्रा में शहर के चिकित्सक इस कार्यक्रम में हिस्सा लेते हैं।

कार्यक्रम का संचालन आईएमए लखनऊ के संयुक्त सचिव डॉ. प्रांजल अग्रवाल एवं वरिष्ठ सदस्य डॉ. अनीता सिंह द्वारा किया गया। डॉ. कुलदीप सक्सेना द्वारा आईएमए लखनऊ कार्यालय को एलईडी डिस्प्ले प्रदान किया गया।

कार्यक्रम में आईएमए लखनऊ के निर्वाचित अध्यक्ष डॉ. जे.डी. रावत, पूर्व अध्यक्ष डॉ. रमा श्रीवास्तव, डॉ. जी.पी. सिंह, आईएमए उत्तर प्रदेश के पूर्व अध्यक्ष डॉ. ए.एम. खान, वरिष्ठ सदस्य डॉ. रुखसाना खान, डॉ. आर.बी. सिंह, डॉ. मनोज अस्थाना एवं डॉ. ऋतु सक्सेना, आईएमए के प्रवक्‍ता डॉ वीरेन्‍द्र यादव, चिकित्‍सा प्रकोष्‍ठ, भाजपा के संयोजक व आईएमए लखनऊ की एक्‍जीक्‍यूटिव कमेटी के सदस्‍य डॉ शाश्‍वत विद्याधर आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

five × five =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.