क्‍वारंटाइन नियम का उल्‍लंघन करने पर आईएएस अधिकारी निलंबित

-हनीमून से लौटे केरल कैडर के अधिकारी क्‍वारंटाइन पीरियड में चले आये थे गृह जनपद सुल्‍तानपुर 

सुल्‍तानपुर-लखनऊ। सिंगापुर और मलेशिया से हनीमून मनाकर करीब 10 दिन बाद लौटे केरल के एक आईएएस अधिकारी ने क्वारंटाइन के नियमों का उल्‍लंघन करने के कारण उन्‍हें निलंबित कर दिया है। 14 दिन के क्‍वारंटाइन पीरियड आईएएस की लोकेशन उनके सरकारी आवास की जगह उत्तर प्रदेश में मिलने के बाद यह मामला खुला। फि‍लहाल उन्‍हें अपने गृह जनपद सुल्‍तानपुर में स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के अधिकारी उनके घर गये थे जहां जांच में उन्‍हें कोरोना के कोई लक्षण नहीं दिखे हैं। सभी लोगों को घर में अलग-अलग कमरों में रखा गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उत्‍तर प्रदेश के सुल्‍तानपुर के रहने वाले अनुपम मिश्रा कोल्लम जिले में एसडीएम हैं। उनकी हाल ही में शादी हुई थी। शादी के बाद वह अपनी पत्नी के साथ हनीमून मनाने सिंगापुर और मलेशिया गए थे। वहां से वह 19 मार्च को वापस लौटे। केरल के सीएम कार्यालय ने कहा कि केरल सरकार ने शुक्रवार को कोल्लम के उपजिलाधिकारी अनुपम मिश्रा को निलंबित कर दिया, जो घर से बाहर चले गए थे और स्वास्थ्य अधिकारियों और जिला कलेक्टर को बताए बिना उत्तर प्रदेश में अपने गृहनगर के लिए रवाना हो गए।

नव-विवाहित, 2016 बैच के आईएएस अधिकारी और उनकी पत्नी पिछले सप्ताह अपनी सिंगापुर-मलेशिया हनीमून यात्रा के बाद लौटे थे और स्वास्थ्य अधिकारियों ने उन्हें कम से कम दो सप्ताह तक घर में रहने की सलाह दी थी। उनके बाहर आने की सूचना तब मिली जब स्वास्थ्य अधिकारी गुरुवार को उनके सरकारी आवास पर उनकी स्थिति के बारे में पूछताछ करने गए।

राज्य में बढ़ते Sars-CoV-2 वायरस के मामलों (कुल 140 मामलों) के बीच उनके अचानक बाहर निकलने से केरल में बड़ा आक्रोश फैल गया है। उनके इस कृत्य से सरकार को भी शर्मिन्‍दगी का सामना पड़ा, जो एक लाख लोगों के साथ घर से बाहर रहने वाले लोगों के साथ काम करने के लिए एक इसकी रोकथाम के काम में लगी हुई है। इससे पहले, पुलिस ने मिश्रा के खिलाफ मामला दर्ज किया था और उनके यूपी समकक्षों को इसके बारे में सूचित किया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार अनुपम मिश्र ने बताया कि जब वह क्‍वारंटाइन में थे तब किसी ने उन्‍हें अपने गृहनगर जाने की सलाह दी थी, इसी सलाह पर ही वह अपने गृहनगर सुल्‍तानपुर के लिए रवाना हुए। उन्‍होंने बताया कि वह अब सुल्तानपुर के जिला मजिस्ट्रेट और पुलिस अधीक्षक (एसपी) के संपर्क में हैं। वे उनकी स्वास्थ्य स्थिति की निगरानी कर रहे हैं और उसका स्वाब फिर से परीक्षण करवा लिया है। रिपोर्ट का इंतजार है।