महामंत्री पर हमला करने में चीफ फार्मासिस्‍ट वीपी सिंह पद व संगठन से निष्‍कासित

-डिप्‍लोमा फार्मासिस्‍ट एसोसिएशन की आपातकालीन बैठक में लिया गया फैसला

-श्रवण सचान के हमलावर वीपी सिंह व साथियों की तत्‍काल गिरफ्तारी की मांग

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन उत्तर प्रदेश की प्रांतीय कार्यकारिणी एवं जनपद शाखा लखनऊ के पदाधिकारियों की आज आपातकालीन बैठक बुलाई गई, इस बैठक में एसोसिएशन की लखनऊ शाखा के जिला मंत्री व बलरामपुर चिकित्सालय के चीफ फार्मासिस्ट वीपी सिंह को उनके पद से हटाते हुए डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन की प्राथमिक सदस्यता से तत्काल प्रभाव से निष्कासित कर दिया है। उनके खिलाफ यह कार्रवाई उनके द्वारा अपने साथियों के साथ मिलकर पिछले दिनों एसोसिएशन के प्रांतीय महामंत्री श्रवण सचान पर जानलेवा हमला किए जाने पर की गई है।

यह जानकारी एसोसिएशन के प्रांतीय प्रवक्ता अनिल सचान द्वारा जारी विज्ञप्ति में देते हुए कहा गया है कि आज मध्यान्ह 12 बजे शुरू हुई आपातकालीन बैठक की अध्यक्षता प्रांतीय एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप बडोला द्वारा की गई। बैठक में शामिल सभी सदस्‍यों ने एकस्‍वर से वीपी सिंह द्वारा श्रवण सचान पर किए गए हमले की निंदा करते हुए इसे अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण बताया। इसके बाद वीपी सिंह को पद से हटाते हुए एसोसिएशन से निष्कासित करने का प्रस्ताव पास किया गया। इसके साथ ही विनोद कुमार सोनी को जिला मंत्री का कार्य देखने के लिए अग्रिम आदेशों तक नामित किया गया। बैठक में मौजूद पदाधिकारियेां ने शासन प्रशासन से मांग की कि महामंत्री श्रवण सचान पर हमला करने वाले वीपी सिंह और उनके साथियों की तत्काल गिरफ्तारी की जाए, गिरफ्तारी न होने पर संगठन अगला कदम उठाने के लिए बाध्य होगा इसकी पूर्ण जिम्मेदारी शासन और पुलिस प्रशासन की होगी।

बैठक में वरिष्ठ उपाध्यक्ष उपेंद्र प्रताप सिंह, उपाध्यक्ष राजेंद्र सिंह पटेल, महामंत्री श्रवण सचान, संगठन मंत्री आर एस राणा, संयुक्त मंत्री देवेश कटारा, कोषाध्यक्ष रजत यादव, मंडलीय सचिव लखनऊ राजेश पांडे, बाराबंकी के जिला मंत्री उमेश मिश्रा, सीतापुर के जिला अध्यक्ष जगदीश सिंह विशाल, लखनऊ शाखा के अध्यक्ष सुशील त्रिपाठी, वरिष्ठ उपाध्यक्ष दिलीप तिवारी, उपाध्यक्ष संगीता वर्मा, संगठन मंत्री विनोद कुमार सोनी, संयुक्त मंत्री अशोक कुमार, ऑडिटर जितेंद्र कुमार पटेल, कोषाध्यक्ष पवन शर्मा तथा संरक्षक आरएनडी द्विवेदी उपस्थित रहे।