Wednesday , June 29 2022

केजीएमयू और संजय गांधी पीजीआई पर नाराजगी जतायी सीडीओ ने, प्रमुख सचिव को पत्र

जिला स्‍वास्‍थ्‍य समिति की बैठक में दोनों संस्‍थानों का कोई भी प्रति‍निधि नहीं पहुंचा   

स्‍कूली बच्‍चों को एमआर टीका लगाने के लिए पेरेन्‍ट्स की सहमति जरूरी नहीं

लखनऊ। जिला अधिकारी की अनुपस्थिति में जिला स्‍वास्‍थ्‍य समिति की बैठक  आज कलेक्ट्रेट के डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम सभागार में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक संपन्न हुई बैठक में अध्यक्षता मुख्‍य विकास अधिकारी मनीष बंसल ने की। बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ नरेंद्र अग्रवाल तथा सभी जिला स्तरीय चिकित्सालयों के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, समस्त अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी तथा कार्यक्रम अधिकारी उपस्थित थे, लेकिन किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍व विद्यालय (केजीएमयू) तथा संजय गांधी पीजीआई का कोई प्रतिनिधि न पहुंचने पर सीडीओ ने नाराजगी जतायी तथा इस सम्‍बन्‍ध में प्रमुख सचिव को पत्र भेजने के निर्देश दिये।

 

जिला स्‍वास्‍थ्‍य समिति की शासी निकाय की बैठक में जननी सुरक्षा योजना, गृह आधारित नवजात देखभाल कार्यक्रम ,प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना की समीक्षा की गई। बैठक में पारा में डूडा द्वारा प्राप्त भवन में जनपद स्तरीय आवासीय प्रशिक्षण केंद्र की स्थापना का अनुमोदन किया गया तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ,प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के सुदृढ़ीकरण का अनुमोदन भी किया गया तथा आवश्यक जनसंख्या के आधार पर चार शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों की स्थापना का निर्णय लिया गया।

 

बैठक में केजीएमयू  तथा संजय गांधी पीजीआई से किसी भी प्रतिनिधि के न आने पर मुख्य विकास अधिकारी ने गहरी नाराजगी व्यक्त की तथा उनके प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा को जिलाधिकारी की तरफ से पत्र भेजने के निर्देश दिए। बैठक में एमआर कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि एमआर का टीकाकरण प्रत्येक स्कूल के प्रत्येक बच्चे को अनिवार्य रूप से लगवाना है। इसके लिए पेरेंट्स की सहमति लेने की आवश्यकता नहीं है ,जो पेरेंट्स नहीं लगवाना चाहते हैं वे विद्यालय में आकर बताएं कि ऐसा क्यों नहीं करना चाहते है जबकि यह एक एडिशनल डोज है जो सभी बच्चों को लगाई जानी अनिवार्य है ।जिला प्रतिरक्षण अधिकारी ने बताया कि अभी भी 109 स्कूल ऐसी है जहां पर टीके के प्रति विरोध है। बैठक में उपस्थित जिला विद्यालय निरीक्षक तथा बेसिक शिक्षा अधिकारी ने  बताया कि आगामी 1 सप्ताह में सभी स्कूलों में शत-प्रतिशत टीकाकरण का प्रयास करेंगे।

 

आज ही पीसीपीएनडीटी की बैठक भी संपन्न हुई। राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम की भी बैठक संपन्न हुई। राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत जनपद में तंबाकू/ धूम्रपान से होने वाले दुष्प्रभाव के बारे में प्रशिक्षण कार्यक्रम  कार्यक्रम का विवरण भी दिया गया। लखनऊ विश्वविद्यालय, पुलिस अधीक्षक यातायात ,महा निदेशक राष्ट्रीय कैडेट कोर, पुलिस अधीक्षक रेलवे, पुलिस विभाग, प्रभारी अधिकारी परिवहन निगम, लखनऊ ,जिला विद्यालय निरीक्षक लखनऊ, चिकित्सा अधीक्षक रेडक्रास, लखनऊ, चिकित्सा अधीक्षक एन के रोड लखनऊ के कार्यालयों में प्रशिक्षण कराया गया। मुख्य विकास अधिकारी ने कहा कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को पत्र भेजकर प्राइमरी स्कूलों के निकट स्थित तंबाकू की दुकानों को बंद कराने के लिए कहा जाए। उन्होंने निर्देशित किया कि राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत लाइव डेमो कार्यक्रम भी आयोजित किए जाएं।