Monday , October 25 2021

बांझपन रोग विशेषज्ञ डॉ गीता खन्‍ना अस्मिता पुरस्‍कार से सम्‍मानित

पीएचडी चैम्‍बर ऑफ कॉमर्स की ओर से राज्‍यमंत्री स्‍वाती सिंह ने दिया सम्‍मान

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित अजन्‍ता हॉस्पिटल एंड आईवीएफ सेंटर की निदेशक एवं आईवीएफ विशेषज्ञ डॉ गीता खन्‍ना को पीएचडी चैम्‍बर ऑफ कॉमर्स की ओर से अस्मि‍ता सम्‍मान से सम्‍मानित किया गया है। महिला दिवस के उपलक्ष्‍य में आयोजित इस समारोह में चिकित्‍सा, पत्रकारिता, फैशन डिजाइनिंग विभिन्‍न क्षेत्रों में उल्‍लेखनीय कार्य करने वाली कई महिलाओं को इस पुरस्‍कार से नवाजा गया है।

बांझपन के शिकार जोड़ों को अपने विभिन्‍न प्रकार के उपचार से संतान का सुख देने जैसे नेक कार्य के लिए डॉ गीता खन्‍ना को यहां गोमती नगर स्थि‍त एक होटल में आयोजित समारोह में मुख्‍य अतिथि उत्‍तर प्रदेश की महिला कल्‍याण एवं परिवार कल्‍याण राज्‍य मंत्री स्‍वाती सिंह ने सम्‍मानित किया। इस मौके पर अपने संक्षिप्‍त सम्‍बोधन में डॉ गीता खन्‍ना ने कहा कि आईवीएफ मेरा जूनून है, मैं जब एमबीबीएस तृतीय वर्ष में थी तभी मैंने प्रसूति रोगों की दिशा में कुछ अलग करने की सोची थी। उन्‍होंने बताया कि 1978 में जब आईवीएफ तकनीक भारत में आयी थी, उसी समय मैंने यह तय कर लिया था कि मैं आईवीएफ के क्षेत्र में ही काम करूंगी। उन्‍होंने बताया कि भगवान ने मेरा साथ दिया और मैं इसे कर पायी। उन्‍होंने कहा कि उन्‍होंने अब तक करीब छह-साढ़े छह हजार आईवीएफ किये हैं। उन्‍होंने कहा कि भगवान का शुक्र है कि मैं यह कर पा रही हूं और हमेशा करती रहूंगी, इसमें कॉस्‍ट कोई फैक्‍टर नहीं है।

उन्‍होंने बताया कि यह मेरे लिए गर्व की बात है कि एक ऐसी महिला जिसका मीनोपॉज हो चुका था उससे लखनऊ की पहली टेस्‍ट ट्यूब बेबी प्रार्थना का जन्‍म उन्‍होंने ही कराया है। प्रार्थना इस समय 20-21 वर्ष की हो गयी है।