Saturday , August 20 2022

अंश वेलफेयर फाउंडेशन ने पूरा किया नौ दिनों तक भोजन देने का संकल्‍प

-900 का लक्ष्‍य कब 4000 तक पहुंच गया पता ही नहीं चला 

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। नवमी पर हमलोगों में से कोई भी कन्या नहीं खिला पाया था, इसलिए मन मे विचार आया कि कन्या नहीं तो कम से कम 9 दिन में 900 लोगों के लिए भोजन बनायेंगे, शुरुआत की तो पूरी टीम ने सहयोग किया। हमें बताते हुए खुशी है कि 900 लोगों तक भोजन पहुंचाने का लक्ष्‍य 9 दिन में 4000 लोगों तक पहुंच गया और सबकुछ आराम से हो गया।

यह कहना है अंश वेलफेयर फाउंडेशन की संस्‍थापक अध्‍यक्ष श्रद्धा सक्‍सेना का। लॉकडाउन के बाद से अनेक संस्‍थाओं द्वारा जरूरतमंद को भोजन पहुंचाने का सिलसिला चल रहा है। इसी क्रम में अंश वेलफेयर फाउंडेशन ने भी रोजाना 400 से 500 पैकेट भोजन के बनाकर भिजवाये। श्रद्धा सक्‍सेना ने बताया कि हमारी संस्‍था द्वारा किये गये इस कार्य को बहुत से लोगों का सहयोग मिला। पैकैटों का वितरण करने के लिए आरिफ भाई अपनी टीम के साथ 2 बजे हमसे फ़ूड पैकेट ले जाते और शाम को 4 बजे आशियाना थाने के अश्विनीजी अपनी टीम के साथ हमसे फ़ूड पैकेट ले जाते।

श्रद्धा बताती हैं कि उनके सहयोग से ही हम घर बैठे ज़रूरतमंदों तक भोजन पहुंचा पाये, एक खुशी और आत्मसंतुष्टि के साथ। उन्‍होंने बतया 9 दिन में 900 का संकल्प था लेकिन 4000 फ़ूड पैकेट बन गए, टीम की एकजुटता और सहयोग से यह संभव हो पाया।घर के ही किचन में रोज़ तरह-तरह के पकवान बनाते हैं, कोई थकान नही, कोई आलस नहीं। उन्‍होंने बताया कि जब हम लोग खाना बनाने बैठते तो पारुल भाभी, कल्पना भाभी, गीता, ऋचा के सहयोग से रोज़ 400 से 500 पैकेट कब बन जाते थे पता ही नहीं चलता था, आज हमारा संकल्प पूरा हुआ।

श्रद्धा ने बताया कि सरकार के लॉकडाउन में जिलाधिकारी के निर्देशों का पूरा पालन करते हुए हम लोगों ने सरकार के प्रतिनिधियों द्वारा भोजन के पैकेट पहुंचवाये। उन्‍होंने बताया कि इस अभियान में सतेंद्र कुमार सक्सेना,गौरबरन घोष, प्रदीप सरकार, राजेन्द्र कुमार सक्सेना, अनूपघोष,पद्मजंग,जितेंद्र कुमार सक्सेना,अजितेश मित्रा, अनामिका मित्रा,सुबोध गुप्ता,सुषमा गुप्ता,पारुल जंग,उपांश रस्तोगी, कल्पना रस्तोगी,प्रशस्थ जंग,देवेंद्र सक्सेना, संजय सक्सेना,मिनी सक्सेना, सपना सक्सेना, अभय सक्सेना, श्रुति सक्सेना,सुरुचि सक्सेना, राजन शंकर, बनिता सक्सेना, पूजा भारद्वाज, शैलेश सिंह,अखिलेश तिवारी, ऋचा तिवारी,अभिषेक सिंह,अश्विनी सक्सेना,संतोष वर्मा,चंचला चटर्जी, अनुराग सिंह, आभा सिंह, सुजॉय कीर्ति, मधु कीर्ति,आलोक सिंह, ममता सिंह,सुशील कुमार भाटिया,भोजराज सिंह, प्रतिभा सिंह,स्वाति बनर्जी, शिप्रा सक्सेना, अंकिता तिवारी, गुरसहाय जौहरी, वंदिनी जौहरी, मंजू श्रीवास्तव, सविता श्रीवास्तव, राधेश्याम श्रीवास्तव, राकेश गुप्ता,मीनाक्षी राय,अंजू, श्वेता श्रीवास्तव, शान्तनु, निरुपमा, मनीष श्रीवास्तव, गीता,श्रद्धा सोनी, आशु,नेहा सक्सेना, प्रतीक सरकार,नवीन गुप्ता, अनुराज सक्सेना,विशाल खरे, मोनिका खरे,आरिफ मोहम्मद,अर्णव,आयुष्मान, शशांक लाल,शैली सोनकर हमारे सहयोगी रहे, इन सबके बिना इतना बड़ा अभियान चला पाना असंभव था। उन्‍होंने अंश वेलफेयर फाउंडेशन की पूरी टीम, दोस्तो, सहयोगियों, परिवारवालों का आभार जताया।