चिकित्‍सा क्षेत्र में इस वर्ष 16 डॉक्‍टरों को पद्म पुरस्‍कार

एकमात्र पद्म भूषण अवॉर्ड महाराष्‍ट्र के चिकित्‍सक को, बाकी को पद्म श्री

उत्‍तर प्रदेश से एकमात्र केजीएमयू के दंत चिकित्‍सक प्रो शादाब मोहम्‍मद  

प्रो शादाब मोहम्‍मद

लखनऊ। इस वर्ष घोषित 112 पद्म पुरस्‍कारों में चार पद्म विभूषण, 14 पद्म भूषण तथा 94 पद्म श्री पुरस्‍कार शामिल हैं। अन्‍य क्षेत्रों के साथ ही चिकित्‍सा-स्‍वास्‍थ्‍य के क्षेत्र में इस वर्ष 15 पद्म पुरस्‍कार दिये गये हैं, इनमें एक पद्म भूषण तथा शेष 14 पद्म श्री पुरस्‍कार हैं। विशेष बात यह है कि एक पद्म श्री पुरस्‍कार एक चिकित्‍सक जोड़े को दिया गया है। इसके अलावा विदेशी मूल की अमेरिका की रहने वाली डॉ टाओ पॉर्चोन लिंच को योग के लिए पद्म श्री अवॉर्ड देने की घोषणा की गयी है। इस तरह चिकित्‍सा-स्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्र में 16 विभूतियों को 15 पद्म पुरस्‍कार दिये जाने की घोषणा की गयी है। उत्‍तर प्रदेश से अकेले चिकित्‍सक किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍व विद्यालय के दंत संकाय के प्रो शादाब मोहम्‍मद हैं जिन्‍हें पद्म श्री पुरस्‍कार देने की घोषणा की गयी है।

मिली जानकारी के अनुसार चिकित्‍सा क्षेत्र में एकमात्र पद्म भूषण अवॉर्ड महाराष्‍ट्र के डॉ अशोक लक्ष्‍मण राव कुकाडे को दिये जाने का ऐलान किया गया है। इनके अतिरिक्‍त असम के डॉ इलियान अली, हिमाचल प्रदेश के डॉ ओमेश कुमार भारती, पश्चिम बंगाल के टाटा मेडिकल सेंटर कोलकाता के निदेशक डॉ मामेन चैन्‍डी, दिल्‍ली के डॉ संदीप गुलेरिया, मध्‍य प्रदेश के डॉ प्रताप सिंह हरदिया, महाराष्‍ट्र के डॉ सुदम काटे, महाराष्‍ट्र के ही डॉ रविन्‍द्र कोल्‍हे व डॉ स्मि‍ता कोल्‍हे को संयुक्‍त, उत्‍तर प्रदेश के डॉ शादाब मोहम्‍मद, झारखंड के डॉ श्‍यामा प्रसाद मुखर्जी, जम्‍मू-कश्‍मीर के डॉ तेसरिंग नरबू, चंडीगढ़ के डॉ जगतराम, तमिलनाडु के डॉ आरवी रमानी तथा तमिलनाडु के ही डॉ रामास्‍वामी वेंकटस्‍वामी को पद्म श्री पुरस्‍कार देने की घोषणा की गयी है।