दलित मेडिकल छात्र की आत्महत्या के विरोध में कैंडिल मार्च

लखनऊ। भारतीय समन्वय संगठन (लक्ष्य) के सैकड़ों कार्यकर्ताओ के साथ किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय केजीएमयू के मेडिकल छात्रों और अन्य संगठनों के कार्यकर्ताओं ने महारानी लक्ष्मीबाई मेडीकल कॉलेज झांसी में एक दलित छात्र अश्वनी कुमार दुवारा दुखी होकर आत्महत्या करने के विरोध में यहां केजीएमयू पर छत्रपति शाहूजी महाराज की प्रतिमा के पास विरोध प्रदर्शन कर एक कैंडल मार्च निकाला।  प्रदर्शनकारियों ने अश्वनी कुमार को श्रद्धांजलि देते हुए लक्ष्य की महिला कमांडरों ने सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री एवं राज्यपाल को ज्ञापन भी दिया।
विरोध प्रदर्शन को संबोधित करते हुए लक्ष्य कमांडर संघमित्रा गौतम ने कहा कि अब समय आ गया है कि दलित समाज को एक होना चाहिए। लक्ष्य कमांडर रजनी सोलंकी ने भारत सरकार से इस घटना की सीबीआई द्वारा निष्पक्ष जांच कराने की मांग की। लक्ष्य कमांडर रेखा आर्या ने कहा कि देशभर में आये दिन दलितों पर अत्याचार होते रहते हैं, इस घटना को लेकर देश भर के दलितों में घोर रोष व्याप्त है। लक्ष्य की कमांडर कमलेश सिंह ने कहा कि अब दलित समाज अत्याचार सहन नहीं करेगा और लक्ष्य की टीम देशभर में किसी भी ज्यादती का पुरजोर विरोध करेगी। मंजुलता आर्या ने भी इस घटना को दुखद बताया और बहुजन समाज की एकता पर बल दिया ।
लक्ष्य की कमांडर मुन्नी देवी ने कड़े शब्दों में इस घटना की निंदा करते हुए इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया । सुषमा बाबू व् चेतना राव  ने कहा कि यह एक शर्मनाक घटना है  और दलित समाज के लोगो को आये दिन इस प्रकार की घटनाओं से दो चार होना पड़ता है। इस विरोध रैली में लक्ष्य की महिला कमांडर अंजू सिंह, शशि सिंह, शालिनीबौद्ध, छात्रों एवं अन्य संगठनों के कार्यकर्ताओ ने भाग लिया।