Monday , November 28 2022

मानव जीवन-मूल्यों का बोध कराता है ऋषि साहित्य

-वांग्‍मय साहित्‍य स्‍थापना अभियान के अंतर्गत 341वां सेट आईआईएम के पुस्‍तकालय में स्‍थापित

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। गायत्री ज्ञान मंदिर इंदिरा नगर, लखनऊ के विचार क्रान्ति ज्ञान यज्ञ अभियान के अन्तर्गत ‘‘भारतीय प्रबन्ध संस्थान आई.आई.एम., लखनऊ की निदेशक अर्चना शुक्ला के पुस्तकालय में 341वां वांग्‍मय साहित्‍य की स्‍थापना की गयी। गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा रचित सम्पूर्ण 79 खण्डों का यह वांग्‍मय साहित्य गायत्री परिवार रचनात्मक ट्रस्ट, गायत्री ज्ञान मंदिर इन्दिरा नगर की ट्रस्टी ऊषा सिंह ने पुस्तकालय में भेंट किया।

 

इस अवसर पर युग निर्माण योजना के सम्पादक आई.एस. पाण्डेय, ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि ऋषि साहित्य नैतिक मूल्यों की शिक्षा प्रदान करता है। संस्थान की निदेशक अर्चना शुक्ला ने कहा कि ऋषि साहित्य मानवीय जीवन मूल्यों का बोध कराता है।

वांग्‍मय स्थापना अभियान के मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा ने कहा कि विचार क्रांति अभियान इस युग की नितांत आवश्यकता है, जनमानस में सद्ज्ञान का प्रकाश फैले और पीड़ा-पतन से मानव जीवन मुक्त हो सके इसलिए ज्ञान यज्ञ युगधर्म है।

इस अवसर पर संस्थान के ओ.एस.डी. ब्रिगेडियर दिनेश शर्मा, प्रशासनिक अधिकारी एम.सी. शुक्ला, मारूति नंदन, नरेन्द्र देव, हरे राम शर्मा भी उपस्थित थे।