Monday , November 28 2022

यूपी की स्‍वास्‍थ्‍य नीतियों में तम्‍बाकू कम्‍पनियों का हस्‍तक्षेप कतई नहीं होने देंगे

-राज्य स्तरीय वर्किंग ग्रुप कमेटी की बैठक में महानिदेशक की दो टूक

-तम्‍बाकू नियंत्रण पर अंतर्राष्‍ट्रीय संधि में भारत शामिल : डॉ लिली सिंह

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की महानिदेशक, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य डॉ लिली सिंह ने कहा है कि हम उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य कार्यक्रमों एवं नीतियों में तम्बाकू कम्पनियों के हस्तक्षेप को रोकने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्‍होंने कहा कि तम्बाकू नामक विष से बच्चों व युवा पीढ़ी को बचाने के लिए शिक्षा विभाग के सहयोग से तम्बाकू मुक्त शिक्षण संस्थान घोषित करने की प्रक्रिया चल रही है।

महानिदेशक ने गुरुवार को चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महानिदेशालय सभागार में राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम अर्न्तगत राज्य स्तरीय वर्किंग ग्रुप कमेटी की बैठक की अध्‍यक्षता करते हुए यह बात कही। डॉ लिली सिंह ने कहा कि भारत तम्बाकू नियंत्रण का अन्तर्राष्ट्रीय संधि के सदस्य देशों में है। उन्‍होंने बैठक में उपस्थित सभी स्टेकहोल्डर विभागों से तम्बाकू नियंत्रण के लिए अपने-अपने उत्तरदायित्वों को निभाने की अपेक्षा की।


राज्य नोडल अधिकारी डॉ सुनील पाण्डेय ने राष्ट्रीय तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम अन्तर्गत प्रदेश में किये जा रहे प्रयासों पर प्रकाश डालते हुए बताया कि प्रदेश में तम्बाकू उपभोग एवं सेकेण्ड स्मोक से हो रहे नुकसान से बचाने एवं युवाओं को तम्बाकू उपयोग आरम्भ करने से रोकने के लिए हर सम्भव प्रयास किये जा रहे हैं, इनमें शिक्षा विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जाना, शिक्षण संस्थान के 100 गज के दायरे में आने वाली समस्त तम्बाकू दुकानों को हटाया जाना, 18 वर्ष से कम आयु वर्ग के बच्चों को तम्बाकू उत्पाद बिक्री पर प्रतिबन्ध लगाया जाना इत्यादि अभियान शामिल हैं।
डी०आई०जी०, स्पेशल टास्क फोर्स अब्दुल हामिद द्वारा अगवत कराया गया कि तम्बाकू की अवैध सप्लाई के विरुद्ध पुलिस विभाग द्वारा कार्यवाही की जा रही है। द यूनियन, नई दिल्ली से सत्यम कपूर ने एफसीटीसी के अनुच्छेद 5.3 के परिपेक्ष में नीतियों के निर्धारण की रूपरेखा पर प्रकाश डाला व राज्य में तम्बाकू विक्रेताओं के लिए लाइसेंस प्रणाली लागू करने के सम्बन्ध में अवगत कराया गया। यूपीवीएचए विवेक अवस्थी ने कहा कि स्वास्थ्य नीतियों में तम्बाकू उद्योग के हस्तक्षेप को रोकने के लिए सरकार ने कई कठोर कदम उठाये है जिसे सम्बन्धित स्टेकहोल्डर विभागों द्वारा और अधिक सहयोग प्रदान किये जाने की अपेक्षा की गयी।


बैठक के अन्त में सभी विभागों द्वारा सार्वजनिक स्थानों पर इन्फोर्समेंट की कार्यवाही तथा युवा पीढ़ी को तम्बाकू उपभोग न किये जाने के लिए तम्बाकू मुक्त शिक्षण संस्थान पर जोर एवं ग्रामीण क्षेत्रों में तम्बाकू नियंत्रण के प्रति जागरूकता अभियान चलाये जाने पर सर्वसम्मति प्रदान की गयी।
बैठक में निदेशक स्वास्थ्य डॉ रागिनी गुप्ता, अपर निदेशक स्वास्थ्य, डॉ अलका शर्मा, राज्य सलाहकार सतीश त्रिपाठी, राज्य सलाहकार सूर्य प्रकाश पाठक, राज्य कोऑर्डिनेटर गौरव, कार्यक्रम सहायक दिनेश, क्षमाकान्त एवं शिवशंकर यादव आदि लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

4 × 1 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.