Saturday , May 7 2022

केंद्रीय सचिव ने कहा, राजभाषा हिन्‍दी को बढ़ावा दिया जाना चाहिये

-पंजाब नेशनल बैंक ने आयोजित की अखिल भारतीय राजभाषा संगोष्‍ठी

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

नयी दिल्‍ली/लखनऊ सचिव, राजभाषा, गृह मंत्रालय, भारत सरकार के सचिव डॉ. सुमीत जैरथ  ने कहा कि राजभाषा के सफल कार्यान्वयन के लिए ‘12 प्र’ की रणनीति को आधार मानते हुए उच्च प्रबंधन स्तर पर राजभाषा हिंदी को बढ़ावा दिया जाए ताकि समस्त स्टाफ सदस्यों में राजभाषा के प्रति सकारात्मक माहौल पैदा हो सके। उन्‍होंने पीएनबी द्वारा राजभाषा हिंदी के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि यह अन्य संस्थानों के लिए भी अनुकरणीय है।

 

डॉ जैरथ ने यह विचार मंगलवार 29 जून को पंजाब नैशनल बैंक, प्रधान कार्यालय द्वारका में अखिल भारतीय राजभाषा संगोष्ठी में व्‍यक्‍त किये। गोष्‍ठी की अध्‍यक्षता पंजाब नैशनल बैंक के एमडी एवं सीईओ सीएच. एस. एस. मल्लिकार्जुन राव ने की। इसमें सभी कार्यपालक निदेशकगण तथा मुख्य महाप्रबंधकगण शामिल थे। इस राजभाषा संगोष्ठी में देश भर के अंचल कार्यालयों के राजभाषा प्रभारी एवं राजभाषा अधिकारी वेबेक्स के माध्यम से जुड़े| इस अवसर पर पंजाब नैशनल बैंक द्वारा हिंदी नोटिंग सहायिका का प्रकाशन किया गया जिसका विमोचन डॉ. सुमीत जैरथ, द्वारा किया गया और उन्होंने इसे अत्यंत उपयोगी बताया|

इस अवसर पर राजेश श्रीवास्तव, उपनिदेशक (कार्यान्वयन), गृह मंत्रालय, राजभाषा विभाग द्वारा अनुवाद टूल “कंठस्थ” के बारे में तथा विक्रम सिंह सोढ़ी, सहायक निदेशक, केन्द्रीय हिंदी प्रशिक्षण संस्थान द्वारा “लीला” एप्प के बारे में सभी को विस्तृत जानकारी प्रदान की। मनीषा शर्मा, सहायक महाप्रबंधक-राजभाषा, पीएनबी ने पॉवर पॉइंट प्रस्तुति के माध्यम से पीएनबी में राजभाषा गतिविधियों एवं उपलब्धियों को अध्यक्ष के सम्मुख प्रस्तुत किया।

बैंक के एमडी एवं सीईओ ने इस संगोष्ठी को बैंक के कार्यपालकों एवं अधिकारियों के लिए अत्यंत उपयोगी बताया। कार्यपालक निदेशक संजय कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन करते हुए कहा कि इस संगोष्ठी से बैंक में राजभाषा कार्यान्वयन को नई दिशा प्राप्त हुई है।