बहुप्रतीक्षित अयोध्‍या विवाद का फैसला 9 नवम्‍बर को सुबह

उत्‍तर प्रदेश के सभी स्‍कूल, कॉलेज, शिक्षण संस्‍थायें, प्रशिक्षण केंद्रों में तीन दिन अवकाश

लखनऊ। बहुप्रतीक्षित और देश का सबसे बड़ा विवाद माना जाने वाले अयोध्‍या मामले का फैसला शनिवार को सुबह साढ़े दस बजे आ रहा है। राम जन्‍म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट में चल रहे विवाद पर फैसले पर पूरे देश की निगाहें हैं।

समाचार एजेंसी पीटीआई के माध्‍यम से आ रही मीडिया रिपोर्ट्स में यह जानकारी दी गयी है। देश के मुख्‍य न्‍यायाधीश जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई वाली पांच सदस्‍यों की संविधान पीठ यह फैसला सुनायेगी। ज्ञात हो आज ही मुख्‍य न्‍यायाधीश ने उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍य सचिव व पुलिस महानिदेशक के साथ बैठक की थी। इस बीच उत्‍तर प्रदेश के सभी स्‍कूल, कॉलेज, शिक्षण संस्‍थायें, प्रशिक्षण केंद्रों में तीन दिन यानी 9, 10 एवं 11 नवम्‍बर को अवकाश घोषित कर दिया गया है।

अयोध्या मामले के फैसले के मद्देनजर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को सतर्क रहने की हिदायत दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को एक सामान्य सलाह दी गई है, राज्यों को सभी संवेदनशील स्थानों पर पर्याप्त सुरक्षाकर्मी तैनात रखने और यह सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि देश में कहीं भी कोई अप्रिय घटना न हो।

सोशल मीडिया पर सख्‍त निगाह रखी जा रही है ताकि माहौल बिगाड़ने वाले मैसेज न वायरल हों, यही नहीं माहौल बिगाड़ने की कोशिश करने वालों के खिलाफ कड़ी काररवाई की जायेगी। बताया जाता है कि मंत्रालय ने कानून व्यवस्था बनाए रखने में राज्य सरकार की सहायता के लिए उत्तर प्रदेश में अर्धसैनिक बलों की 40 कंपनियों (प्रत्येक में लगभग 100 कर्मी) को भी उतारा है। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अपने सभी मंत्रियों को अयोध्या फैसले के संबंध में अनावश्यक बयान देने से बचने के लिए भी कहा था।

इसी प्रकार गृह मंत्रालय ने बुधवार को योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली उत्तर प्रदेश सरकार को अयोध्या में सभी सुरक्षा तैयारियों को सुनिश्चित करने के लिए आगाह किया था। अयोध्या को सुरक्षा तैयारियों के साथ किसी भी अप्रिय घटना को विफल करने के लिए सुरक्षा के व्‍यापक इंतजाम किये गये हैं।