Thursday , August 18 2022

…ताकि कोविड काल में मरीजों से जुड़े कर्मचारियों की संख्‍या कम न हो

-राज्‍य कर्मचारी संयुक्‍त परिषद ने सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारियों को पुनर्नियुक्ति देने का अनुरोध किया

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद उत्तर प्रदेश ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि वैश्विक महामारी कोविड-19 को देखते हुए सरकार नर्सेज, फार्मासिस्‍ट, टेक्‍नीशियंस जैसे कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति स्‍थगित कर आगे की अवधि के लिए उन कर्मचारियों को पुनर्नियुक्ति पर रखा जाये, जिससे सेवानिवृत्ति से होने वाली संख्‍या बल में कमी न पैदा हो सके।

राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष सुरेश कुमार रावत एवं महामंत्री अतुल मिश्रा ने मुख्यमंत्री का ध्यान आकर्षित करते हुए अनुरोध किया है कि मध्य प्रदेश एवं राजस्थान सरकार में ऐसे कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति आयु 62 वर्ष कर दी गई है। जनहित में यह सुझाव दिया है जो वर्तमान समय में नितांत आवश्यक है।

नेताद्वय का कहना है कि अस्पतालो में कार्यरत नर्सेज, फार्मासिस्ट, लैब टेक्नीशियन, अन्य टेक्नीशियन आदि कर्मचारियों, जो 30 जून को सेवानिवृत्त हुए हैं या होने वाले हैं, उनकी सेवाओं को पुनर्नियुक्ति के रूप में जारी रखा जाए क्योंकि उनके हट जाने से कोरोना के मरीजों के इलाज में बाधा उत्पन्न होगी।

उनका कहना है कि पैरामेडिकल के समस्त संवर्गों में काफी समय से नए पद सृजित नही हुए व रिक्त पदों पर नियमित नियुक्ति न हो पाने से भारी संख्या में पद खाली पड़े हैं। जिसकी वजह से कर्मचारियों को अवकाश तक मिलने में कठिनाई होती है साथ ही एक-एक कर्मचारी को कई कर्मचारियों के हिस्से का काम भी करना पड़ रहा है। ये कर्मी अपनी जान की परवाह किये बगैर सेवा दे रहे हैं, सरकार द्वारा वर्तमान कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है, कोरोना से बचाव और उपचार दोनों में ये कर्मी अनुभवी और निपुण हैं।