केजीएमयू के केंद्र पर मेडिकल टीचर्स ट्रेनिंग की सिल्वर जुबिली

चार दिवसीय प्रशिक्षण में 16 मेडिकल कॉलेजों के 30 शिक्षक भाग ले रहे

लखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में सोमवार 31 जुलाई को 25वें चिकित्सा शिक्षा तकनीक कार्यक्रम का उद्घाटन चिकित्सा विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो एमएलबी भट्टï ने किया। इस चार दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में 16 मेडिकल कॉलेजों के 30 चिकित्सा शिक्षक प्रतिभाग कर रहे हैं। चिकित्सा विश्वविद्यालय के मेडिकल एजूकेशन विभाग की प्रो. शैली अवस्थी ने बताया कि केजीएमयू में यह प्रािक्षण कार्यक्रम मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के मानकों के अनुरूप 2014 से चलाया जा रहा है तथा केजीएमयू के इस प्रशिक्षण केन्द्र को एमसीआई द्वारा क्षेत्रीय केन्द्र का दर्जा दिया गया है। इस क्षेत्रीय केन्द्र का आरम्भ सन् 2013 में प्रो. शैली अवस्थी के नेतृत्व में उनके अतिरिक्त चिकित्सा विश्वविद्यालय के 7 चिकित्सा शिक्षकों द्वारा किया गया था। जिनमें प्रो. विनोद जैन, प्रो. विनीता दास, प्रो. विनीता सिंह, प्रो. अपुल गोयल, प्रो. उमा सिंह, डॉ. समीर मिश्रा एवं प्रो. पीके शर्मा थे।अपने आरम्भ से अब तक इस प्रशिक्षण केन्द्र द्वारा 750 चिकित्सा शिक्षकों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है। केजीएमयू के अन्तर्गत क्षेत्रीय सेण्टर होने के कारण संस्थान पर भारत के पूर्वी राज्यों में चिकित्सा शिक्षक तकनीक के विस्तार की जिम्मेदारी है।
प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन करते हुए प्रो भट्ट ने कहा कि इस प्रकार का कार्यक्रम चिकित्सा विश्वविद्यालय के लिए गौरव का विषय है। चिकित्सा शिक्षा के बदलते स्वरूप की जानकारी एवं इसके प्रति चिकित्सकों को प्रशिक्षित करना अपने आप में एक महत्वपूर्ण कार्य है जिसके दूरगामी परिणाम समाज में दी जाने वाली बेहतर चिकित्सा सेवा के रूप में परिलक्षित होंंगे।
इस मौके पर प्रो विनोद जैन, डॉ समीर मिश्रा, डॉ. रिद्धी जैसवाल, डॉ. आरके दीक्षित, प्रो विनीता दास, प्रो. उमा सिंह, प्रो. मधुमति गोयल तथा अन्य चिकित्सा शिक्षक उपस्थित रहे।