समर्पण की रौशनी में ली नर्सिंग सेवा की शपथ

-सिर्फ नौकरी नहीं,  अनमोल सेवा भाव भी है नर्सिंग : डॉ डीएस नेगी

-ईमानदारी के साथ निभाइयेगा नर्सिंग की शपथ : सीमा शुक्‍ला

-कर्म के अलावा कोई रास्‍ता नहीं, कोई शॉर्टकट नहीं : डॉ आरएस दुबे

-समर्पण इंस्‍टीट्यूट ऑफ नर्सिंग एंड पैरामेडिकल साइंसेज में लैम्‍प लाइटिंग एंड ओथ सेरेमनी आयोजित

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। समर्पण इंस्‍टीट्यूट ऑफ नर्सिंग एंड पैरामेडिकल साइंसेज में आज आयोजित लैम्‍प लाइटिंग एंड ओथ सेरेमनी में नर्सिंग कोर्स करने वाले 180 विद्यार्थियों ने मोमबत्‍ती से प्रकाश फैलाते हुए नर्सिंग कैरियर के मार्ग पर चलते हुए मरीजों की सेवा की शपथ ली। इस मौके पर समारोह के मुख्‍य अतिथि उत्‍तर प्रदेश के चिकित्‍सा स्‍वास्‍थ्‍य के महानिदेशक डॉ डीएस नेगी ने अपने सम्‍बोधन में शुभकामनायें देते हुए नर्सिंग के लिए तैयार कर्मयोगियों से कहा कि तनख्‍वाह के अतिरिक्‍त मरीजों की दुआएं जो मिलती हैं वे आप और आपके परिवार के लिए भी अनमोल हैं।

डॉ नेगी ने कहा कि आप लोग आज से नये कैरियर की शुरुआत कर रहे हैं, यह सिर्फ नौकरी का कैरियर नहीं है, यह सेवा भाव का काम है। उन्‍होंने कहा कि वर्ल्‍ड वार के समय नाइटिंगल ने सैनिकों की सेवा की, वह दूसरों के लिए प्रेरणास्रोत बनीं, और उनके कार्य से नर्सिंग की नयी पहचान बनी है। उन्‍होंने कहा कि कभी भी नयी चीज सीखने से पीछे नहीं हटना चाहिये, क्‍योंकि सीखने की उम्र नहीं होती है, मैं रिटायरमेंट के कगार पर हूं, फि‍र भी जो चीज सीखने को मिलती है मैं सीखने को तैयार रहता हूं।

समारोह की विशिष्‍ट अतिथि संजय गांधी पीजीआई की नर्सिंग स्‍टाफ एसोसिएशन की अध्‍यक्ष सीमा शुक्‍ला ने कहा कि आज आप लोग नर्सिंग की शपथ ले रहे हैं, इसे हमेशा याद रखियेगा, इसे ईमानदारी से आप निभाइयेगा। आप जहां भी रहें इस इंस्‍टीट्यूट का नाम रौशन करें। मैंने 2007 में संजय गांधी पीजीआई में ज्‍वॉइन किया था और मैंने पोस्‍ट ऑप आईसीयू जैसी क्रिटिकल जगह पर कार्य किया, इसी बीच 2015 में नर्सिंग एसोसिएशन की अध्‍यक्ष चुन ली गयी, तबसे लगातार सात साल से अध्‍यक्ष हूं, उन्‍होंने नर्सिंग विद्यार्थियों से आह्वान किया कि आप लोग कहीं भी रहें नर्सेज की डिग्निटी बनाकर रखें।

इंस्‍टीट्यूट के चेयरमैन डॉ आरएस दुबे ने अपने सम्‍बोधन में नर्सिंग स्‍टूडेंट्स से कहा कि आपको अच्‍छा पढ़ाना हमारा काम है, पढ़ना आपका काम है, सीखना कार्य है, जब तक आपमें इच्‍छाशक्ति नहीं होगी, दूसरा कोई नहीं कर पायेगा, आपको अपने लिए हमेशा मेहनत के साथ अच्‍छे कर्म करते रहना चाहिये, गीता में भी कहा गया है कर्म के अलावा कोई रास्‍ता नहीं, कोई शॉर्टकट नहीं। उन्‍होंने कहा कि डॉ नेगी और मेरा लम्‍बे समय से करीब 1998 से साथ रहा है, इनमें इतनी शक्ति है काम काम और काम मुझे इनसे काम करने की बहुत प्रेरणा मिली है। मैं सर्जन था, ये एनेस्‍थेटिस्‍ट थे, मुझे इनके कार्य से प्रेरणा मिलती थी। समारोह को विशिष्‍ट अतिथि कमाण्‍ड हॉस्पिटल की प्रिंसिपल मेट्रन ब्रिगेडियर सुनीता शर्मा, नर्सिंग कॉलेज कमाण्‍ड हॉस्पिटल की प्रिंसिपल कर्नल गीता और समर्पण इंस्‍टीट्यूट की प्रिंसिपल दीप्ति शुक्‍ला ने बीएससी, जीएनएम व एएनएम नर्सिंग विद्यार्थियों को शपथ दिलायी।