हल्‍के वायरल लोड वाले लोगों से एड्स का खतरा नहीं

-विश्‍व एड्स दिवस (1 दिसम्‍बर) पर डॉ अनुरुद्ध वर्मा की कलम से

डॉ अनुरुद्ध वर्मा

विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन द्वारा दुनिया भर में 1 दिसंबर को विश्व एड्स दिवस मनाया जाता है। यह दिन एक्वायर्ड इम्यून डेफिसिएंसी सिंड्रोम (एड्स) के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए है जो ह्यूमन इम्यूनो डेफिशिएंसी वायरस (एचआईवी) के कारण होता है जब एचआईवी को अनुपचारित छोड़ दिया जाता है तब एड्स होता है। एड्स एक ऐसी स्थिति है जो संक्रमण से लड़ने की शरीर की क्षमता को कमजोर करती है। मानव शरीर एचआईवी से छुटकारा नहीं पा सकता क्योंकि इसका कोई प्रभावी इलाज नहीं खोजा जा सका है जो व्यक्ति एचआईवी से संक्रमित है वह जीवन भर के लिए है। इसकी गंभीरता का अनुमान इससे लगाया जा सकता है कि विगत चार दशकों में एचआईवी / एड्स से लाखों लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

यदि एचआईवी से संक्रमित व्यक्ति के पास एक अनपेक्षित वायरल लोड है तो इसका मतलब है कि उपचार से रक्त में वायरस की मात्रा कम हो गई है उन स्तरों तक जहां सामान्य रक्त परीक्षण द्वारा इसका पता नहीं लगाया जा सकता है ऐसा व्यक्ति एचआईवी संक्रमण नहीं कर सकता। एचआईवी केवल उसी व्यक्ति द्वारा प्रसारित किया जा सकता है जिसके पास एक पता लगाने योग्य वायरल लोड है। ये लोग वायरस को दूसरों तक पहुंचा सकते हैं, चाहे उनके लक्षण हों या न हों। संक्रमण के पहले कुछ हफ्तों के दौरान वायरस सबसे अधिक संक्रामक होता है। इस समय कई लोग अपनी स्थिति से अनजान हैं जो संक्रमण फैला सकते हैं।

इस वर्ष कोविड -19 महामारी के कारण यह विषय विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्योंकि इसने दुनिया भर में एचआईवी / एड्स को खत्म करने की तात्कालिकता को महसूस किया है। विश्व एड्स दिवस 2020 का विषय एच आई वी /एड्स की रोकथाम : लचीलापन एवं प्रभाव है जो उन सभी चीजों की याद दिलाता है जिन्हें प्राप्त किया जा सकता है जब हम एक साथ एचआईवी के उपचार और रोकथाम के लिए उच्च गुणवत्ता वाली सेवाओं को विस्तारित करके प्रभाव पर ध्यान केंद्रित करते हैं जिनकी आवश्यकता है। यह एचआईवी के साथ लोगों के खिलाफ कलंक और भेदभाव से निपटने पर भी ध्यान केंद्रित करता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट में लचीलापन की भूमिका की पुष्टि की गई है जो एचआईवी / एआईडी से संक्रमित व्यक्तियों को संक्रमण से जुड़ी चुनौतियों का सामना करने में सक्षम बनाता है यहां तक ​​कि विपरीत परिस्थितियों में भी ।

आप एचआईवी से कैसे संक्रमित हो सकते हैं ?

एचआईवी वायरस के साथ रहने वाले किसी व्यक्ति के शरीर के तरल पदार्थ में मौजूद होता है। इन तरल पदार्थों में रक्त, योनि तरल पदार्थ, वीर्य और पूर्व-वीर्य तरल पदार्थ और मलाशय तरल पदार्थ शामिल हैं। जब एक संक्रमित व्यक्ति के शरीर के तरल पदार्थ एक श्लेष्मा झिल्ली के माध्यम से आपके रक्त में प्रवेश करते हैं तो एक व्यक्ति एचआईवी से संक्रमित हो सकता है – मलाशय, योनि का अस्तर, असुरक्षित यौन संबंध, इंजेक्शन लगाने वाले उपकरण या कटी हुई त्वचा जैसे मुंह में या गुदा के आसपास घाव। इसके विपरीत आँसू के माध्यम से लार, मूत्र या पसीने जैसे शरीर के तरल पदार्थों में एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में संचारित होने के लिए पर्याप्त एचआईवी नहीं होता है।

इस विश्व एड्स दिवस पर जितना संभव हो उतना एचआईवी / एड्स के बारे में जागरूकता फैलाकर इसके संक्रमण को रोकना है जिससे इस महामारी पर नियंत्रण प्राप्त किया सके।

(लेखक डॉ अनुरुद्ध वर्मा वरिष्‍ठ चिकित्‍सक हैं, इस लेख में दिये गये विचार लेखक के अपने हैं)