दूरबीन विधि से मोटापा कम करने की सर्जरी दूर रख रही कई गंभीर रोगों को

अजंता अस्‍पताल में आयोजित हुई कार्यशाला में बैरिएटिक सर्जरी के चार केसों का सीधा प्रसारण

लखनऊ। आधुनिक सर्जरी में से एक बैरिएटिक सर्जरी को लेकर लोगों का विश्‍वास अब पुख्‍ता हो चला है, इसकी वजह लोगों में इसकी जागरूकता और इस सर्जरी के बेहतर परिणाम हैं। इस सर्जरी के तहत मोटापे से लोगों को छुटकारा मिल जाता है। चूंकि मोटापा अनेक रोगों का कारण होता है इसलिए यह कहा जा सकता है कि अनेक रोगों में इस सर्जरी का विशेष महत्‍व हैं।

 

यह बात यहां आलमबाग स्थित अजंता हॉस्पिटल में आज शनिवार को आयोजित बैरिएटिक सर्जरी पर कार्यशाला के बारे में जानकारी देते हुए हॉस्पिटल के प्रबंध निदेशक व सर्जन डॉ अनिल खन्‍ना ने कही। इस कार्यशाला में करीब 125 लैप्रोस्कोपिक सर्जनों ने भाग लिया। इन चिकित्‍सकों ने बैरिएटिक सर्जरी का एक सजीव सत्र के तहत चार सर्जरी देखीं। बैरिएटिक सर्जरी के विशेषज्ञ डॉ महेन्द्र नरवरिया और लखनऊ के बैरिएटिक सर्जन डॉ राहुल सिंह ने वर्कशॉप के दौरान मोटापे से ग्रसित चार मरीजों का ऑपरेशन किया। इस मौके पर पत्रकारों से बातचीत में दोनों सर्जनों ने बताया कि कैसे आधुनिक बैरिएटिक सर्जरी डायबिटीज, उच्च रक्तचाप व कोलेस्ट्रोल की बीमारियों से बचाने में मदद करती हैं। उन्‍होंने बताया कि यह सर्जरी अधिक वजन से मरीज को जादुई फायदा दिलाती है। उन्होंने बताया कि पहले के जमाने में पीड़ित बैरिएटिक सर्जरी को लेकर उलझन में रहते थे कि कराएं या नहीं लेकिन अब जागरूकता और बेहतर परिणाम के चलते उन्हें बैरिएटिक सर्जरी पर पूरा विश्वास हो गया है।

इस अवसर पर डॉ राहुल सिंह ने बताया कि अजंता हॉस्पिटल में जितने भी मरीजों ने ये सर्जरी करवाई उन्हें जैसे एक नया जन्म मिला और उन्होंने अन्य पीड़ितों को भी इस चमत्कारिक सर्जरी के बारे में जागरूक किया। जिन डॉक्टरों ने कार्यशाला के इस सत्र में भाग लिया उन्होंने सभी प्रमुख सर्जरी के बारे में न केवल बारीकी से समझा बल्कि संशोधित बैरिएटिक ऑपरेशन को भी करीब से जाना। इतना ही नहीं इस कार्यक्रम का लाइव ब्रॉडकास्ट भी किया गया, जिससे इन सर्जरी को देखने का उन डॉक्‍टरों ने भी देखा जो कि व्यस्तता के कारण इस वर्कशॉप का हिस्सा नहीं बन सके। डॉ खन्‍ना ने बताया कि गुजरे तीन साल में अब तक इस सर्जरी के माध्यम से हमारे हॉस्पिटल में 73 पीड़ितों का सफल ऑपरेशन कर उनको नया जीवन प्रदान किया गया है। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार के कर्मचारियों और ईएसआई वर्ग के लिए तो इस सर्जरी के लिए अब कैशलेस सुविधा भी उपलब्ध है।