महात्‍मा गांधी और लाल बहादुर शास्‍त्री देश के अनमोल रत्‍न

-गांधी-शास्‍त्री जयंती पर केजीएमयू इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल साइंसेस ने आयोजित किया रामधुन एवं भजनों का कार्यक्रम
-गांधी स्‍मारक एवं सम्‍बद्ध चिकित्‍सालय स्थित मूर्ति पर किया गया माल्‍यार्पण

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। किेंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍वविद्यालय की पूर्व कुलपति डॉ सरोज चूड़ामणि ने महात्‍मा गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्‍त्री को देश के अनमोल रत्‍न बताते हुए कहा है कि आज पूरा विश्व इनके विचारों को अपनाकर सत्य और अहिंसा के मार्ग पर चलने की प्रेरणा ले रहा है।

डॉ सरोज चूड़ामणि ने ये विचार आज यहां केजीएमयू इंस्टीट्यूट ऑफ पैरामेडिकल साइंसेस द्वारा राष्ट्रपिता महात्‍मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर रामधुन एवं भजनों के कार्यक्रम केजीएमयू में गांधी जयंती के अवसर पर आयोजित समारोह में व्‍यक्‍त किये।

उन्होंने कहा कि गांधी जी ने अपनी आत्मशक्ति के बल पर देश को स्वतंत्रता दिलाने के साथ ही समाज की दिशा को बदलने का प्रयास करते हुए उसे विकास का मार्ग दिखाने का कार्य किया। इसके साथ ही उन्होंने वर्तमान समय में गांधी जी के विचारों से प्रेरणा लेते हुए चिकित्सा समेत अन्य क्षेत्रों में भी विकास की आवश्यकता पर जोर दिया।

इस अवसर पर डीन, पैरामेडिकल साइंसेज डॉ विनोद जैन ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए उनके आदर्श व्यक्तित्व से प्रेरणा लेते हुए समाज को नई दिशा प्रदान किए जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि गांधी जी के जीवन से प्रेरणा मिलती है कि उन्होंने कभी अपने मन में नकारात्मकता का प्रभाव नहीं आने दिया।

उन्होंने कहा कि मनुष्य को कभी अपने जीवन में नकारात्मकता का प्रभाव नहीं पड़ने देना चाहिए। उन्होंने कहा कि नकारात्मकता का प्रभाव न ही स्वयं के जीवन पर आने देना चाहिए और न ही परिवार और समाज पर इसका असर पड़ने देना चाहिए। उन्होंने बताया कि गांधी जी ने बिना भेदभाव भारत ही नहीं बल्कि सम्पूर्ण विश्व के हित में कार्य किया।

इस कार्यक्रम में अधिष्‍ठाता छात्र कल्‍याण डॉ जीपी सिंह, हृदय रोग विभाग के विभागाध्‍यक्ष प्रो वीएस नारायण, ट्रॉमा सर्जरी के विभागाध्‍यक्ष डॉ संदीप तिवारी, डीन रिसर्च सेल डॉ आरके गर्ग, प्रो बीएन सिंह  सहित एम0बी0बी0एस0, पैरामेडिकल एवं नर्सिंग के विद्यार्थियों ने सैकड़ों की संख्या में प्रतिभाग किया।

 

सत्‍य और अहिंसा सबल व्‍यक्तित्‍व की पहचान

इसके अतिरिक्‍त केजीएमयू के गांधी स्‍मारक सम्‍बद्ध चिकित्‍सालय के मुख्‍य भवन स्थित गांधी जी की प्रतिमा पर माल्‍यार्पण कर उन्‍हें नमन  किया गया। गांधी को नमन करने वालों में चिकित्सा विश्वविद्यालय की पूर्व कुलपति प्रो0 सरोज चूड़ामणि, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक प्रो0 एसएन संखवार, प्रति कुलपति प्रो0 मधुमति गोयल, कुलसचिव राजेश कुमार राय, वित्त अधिकारी मो0 जमा, चिकित्सा अधीक्षक गांधी स्मारक एवं संबद्व चिकित्सालय प्रो0 बीके ओझा, विभागाध्यक्ष, ट्रामा सर्जरी प्रो0 संदीप तिवारी समेत अन्य वरिष्ठ चिकित्सक शामिल थे।

इस मौके पर अपने उद्बोधन में मुख्‍य चिकित्‍सा अधीक्षक डॉ एसएन संखवार ने कहा कि देश के इतिहास में आज के दिन से महत्‍वपूर्ण कोई दिन नहीं है। उन्‍होंने राष्ट्रपिता महात्‍मा गांधी द्वारा सत्‍य और अहिंसा के बताये रास्‍ते को एक मजबूत हथियार बताते हुए कहा कि सत्‍य और अहिंसा कमजोर लोगों के हथियार नहीं हैं बल्कि यह सबल व्‍यक्तित्‍व की पहचान है।