लोहिया कर्मचारी अस्तित्‍व बचाओ मोर्चा डटा हुआ है राज्‍य कर्मचारी संयुक्‍त परिषद के साथ

-18 सूत्रीय मांगों को लेकर लोहिया संस्‍थान के कर्मचारी भाग ले रहे आंदोलन में

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। लोहिया कर्मचारी अस्तित्व बचाओ मोर्चा ने कहा है कि मोर्चा राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद उत्तर प्रदेश द्वारा घोषित आंदोलन के समर्थन में पूरी दृढ़ता के साथ खड़ा है, काला फीता बांधकर विरोध के बाद अब सोमवार से गेट मीटिंग का दौर शुरू होगा।

मोर्चा के उपाध्यक्ष राजेश शुक्ला तथा उपाध्‍यक्ष अनिल चौधरी ने कि  26 फरवरी को डॉ राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में सभी कर्मचारियों ने राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के अध्यक्ष सुरेश रावत तथा महामंत्री अतुल मिश्रा द्वारा घोषित आंदोलन के समर्थन में काला फीता बांधकर संकेतिक विरोध करने के लिए सभा का आयोजन किया था।

नेताद्वय ने कहा कि सोमवार 1 मार्च से आंदोलन के तहत गेट मीटिंग का आयोजन किया जाएगा। अनिल चौधरी ने कहा कि इस कमरतोड़ महंगाई में मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश द्वारा 9 अक्टूबर 2018 को परिषद के अध्यक्ष व महामंत्री की उपस्थिति में 18 सूत्रीय मांग पत्र पर 3 माह में निर्णय कराने का लिखित समझौता हुआ था लेकिन अफसोस की बात है कि जिसमें से एक भी मांग अब तक पूरी नहीं हुई। उन्होंने कहा कि हमारी मुख्य मांगों में वेतन विसंगतियां दूर करना, कैशलेस इलाज, संविदा व आउटसोर्सिंग कर्मचारियों के लिए स्थाई नीति सेवा नियमावली बनाकर समान कार्य समान वेतन की व्यवस्था लागू कराना जैसी कुल 18 मांगे हैं।

विरोध सभा में मोर्चे के अध्यक्ष डी डी त्रिपाठी, राजेश शुक्ला, अजीत मिश्रा, राजदेव चौधरी, राकेश उमराव, कमलेश गौतम, प्रभाकर त्रिपाठी, विनोद कुमार पांडे, श्रद्धा शुक्ला, अंजुल, राजेश श्रीवास्तव, विपिन मिश्रा, मनोज गुप्ता सहित बड़ी संख्या में आउटसोर्सिंग व स्‍थायी कर्मचारी उपस्थित रहे।