नमक की तरह योग को स्थान दें जीवन में : मोदी

प्रधानमंत्री ने रिमझिम बारिश के बीच 51000 लोगों संग किया योग
लखनऊ में हुआ तीसरे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का मुख्य समारोह
देशभर के साथ विदेशों से भी योग मनाये जाने के समाचार

लखनऊ। रिमझिम बारिश के बीच यहां लखनऊ में तीसरा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस उल्लासपूर्वक मनाया गया। मुख्य समारोह स्थल रमाबाई अम्बेडकर मैदान में 51000 लोगों के साथ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बच्चों के बीच बैठकर योगासन किया। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भी प्रधानमंत्री संग योग किया। योग करने से पूर्व अपने सम्बोधन में श्री मोदी ने योग को खाने में नमक की तरह तरजीह देने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि बिना नमक का खाना बेस्वाद ही नहीं लगता है बल्कि शरीर की अंतररचना बिगाड़ देता है इसलिए शरीर को नमक की आवश्यकता रहती है उसी प्रकार अपने जीवन में योग को भी नमक की तरह स्थान दें।
मुख्य समारोह होने के कारण पूरे देश की निगाहों का केंद्र बने लखनऊ के रमाबाई अम्बेडर मैदान पर प्रधानमंत्री प्रात: 6.30 पर पहुंचे। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री मंगलवार को ही लखनऊ पहुुंच गये थे। अपने सम्बोधन में प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि जब से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर योग दिवस मनाने की शुरुआत हुई है तब से देश में योग की अनेक संस्थायें खुली हैं, योग अध्यापकों की मांग बढ़ी है। योग अध्यापकों की मांग सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी बढ़ी है। उन्होंने कहा कि योग बहुत प्राचीन पद्धति है और हर युग में इसे अपनी-अपनी तरह से किया जाता रहा है और हर युग में इसमें कुछ न कुछ जुड़ता गया जिससे इसका विकास और विस्तार होता रहा। उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि योग को जीवन का हिस्सा बनायें।
श्री मोदी ने कहा कि जब हम पहली बार योग करते हैं तो हमें पता चलता है कि हमारे शरीर के कौन-कौन से अंग सुसुप्तावस्था में पड़े थे और जब उनमें शक्ति का संचार होता है तो एक अलग ही आनंद की अनुभूति होती है। मैदान पर उपस्थित कई लोग बारिश से बचने के लिए योग करने के लिए बिछी चटाई को ही छाता के रूप में में प्रयोग कर रहे थे, प्रधानमंत्री ने इस पर मजाकिया लहजे में कहा कि लखनऊ के लोग जरूरत के अनुसार चीजों का उपयोग करना जानते हैं।
इस मौके पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि रमाबाई अम्बेडकर, जो बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की प्रेरणास्रोत रही थीं, ऐसी माता की स्मृति में बने इस मैदान पर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने में हम गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। उन्होंने योग को विश्व में स्थान दिलाने और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दिवस मनाने का निर्णय लिये जाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी के प्रयासों की सराहना की।
रमाबाई मैदान पर लोग देर रात से ही जुटना शुरू हो गये थे। उसके बाद जब बारिश होने लगी तो एक बार ऐसा लगा कि कार्यक्रम में भारी व्यवधान न पड़ जाये लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। प्रधानमंत्री सहित उपस्थित सभी लोगों ने पूरे उत्साह के साथ योग किया।
 इस बीच देश और विदेशों से भी अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने की खबरें हैं। दिल्ली, मुम्बई के साथ ही माइनस 25 डिग्री वाले सियाचिन में भी जवानों ने पूरे जोश के साथ योग किया। न्यूयार्क, लंदन से भी अंतरराष्ट्रीय योग मनाये जाने के समाचार हैं। यहां पर न केवल भारतीय मूल के बल्कि विदेशी मूल के लोगों ने भी पूरे जोश के साथ योग में हिस्सा लिया।