पुलिस के खिलाड़ि‍यों की चोट पर मरहम अब केजीएमयू लगायेगा

-स्पोर्ट्स मेडिसिन विभाग और यूपी पुलिस स्पोर्ट्स कंट्रोल बोर्ड के बीच एमओयू पर हस्‍ताक्षर

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश भर के पुलिस के खिला‍ड़ि‍यों को अब केजीएमयू के डॉक्टर स्पोर्ट्स इंजरी के बारे में जागरूक करेंगे। यही नहीं संस्थान के अलावा मौके पर जाकर इलाज भी करेंगे। साथ ही खिलाड़ियों को स्पोर्ट्स इंजरी और मौके पर ही खुद ही दुरुस्त होने के बारे जानकारी देंगे।

केजीएमयू के स्पोर्ट्स मेडिसिन विभाग और यूपी पुलिस स्पोर्ट्स कंट्रोल बोर्ड के बीच सोमवार को एक एमओयू हुआ है। केजीएमयू कुलपति कार्यालय में पांच साल के लिए एमओयू पर अफसरों ने हस्ताक्षर किए। इस एमओयू में सशस्त्र सुरक्षा बल, खेल निदेशालय, स्पोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (साई) भी शामिल है। एमओयू हस्ताक्षर के दौरान केजीएमयू के कुलपति डॉ बिपिन पुरी, यूपी पुलिस स्पोर्ट्स कंट्रोल बोर्ड के सचिव व आईजी जोन पीएसी आशुतोष कुमार, यूपी पुलिस स्पोर्ट्स ऑफीसर भगत सिंह, यूपी पुलिस कोच इंस्पेक्टर अभिनव सिंह पुंडीर, प्रति कुलपति प्रो0 विनीत शर्मा, स्पोर्ट्स मेडिसिन विभाग के कार्यवाहक विभागाध्यक्ष प्रो0आशीष कुमार, असिस्‍टेंट प्रोफेसर डा0 अभिषेक सैनी, यूपी ओलंपिक एसोसिएशन से सैय्यद रफत, आनंदेश्वर पांडेय, खेल निदेशालय से आरपी सिंह आदि उपस्थित रहे।

आईजी आशुतोष कुमार ने कहा कि इस एमओयू से प्रदेश के पुलिस के खिलाड़ियों को बेहतर चिकित्सीय प्रशिक्षण के साथ इलाज भी मिलेगा। उन्हें स्पोर्ट्स इंजरी के बारे में भी जानकारी हासिल हो सकेगी। स्पोर्ट्स मेडिसिन विभाग के प्रमुख डॉ आशीष कुमार ने बताया कि खिलाड़ियों को ऑर्थोस्कोपी, उनके खानपान, स्पोर्ट्स इंजरी आदि के बारे में डॉक्टरों की टीम द्वारा समय-समय पर प्रशिक्षित किया जाएगा। मैदान पर खेल के दौरान केजीएमयू के पीजी स्टूडेंट और अन्य डॉक्टर भी रहेंगे। इससे खिलाड़ियों में चोट का खतरा और डर कम रहेगा।