मुंह की बीमारियों के प्रति जागरूक करना चाहती हैं अंजली मल्‍ल

-बीडीएस की टॉपर अंजली मल्‍ल से बतायी अपनी प्राथमिकता

अंजली मल्‍ल

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍वविद्यालय (केजीएमयू) में बीडीएस की टॉपर तथा ओवरऑल तीसरे स्‍थान पर आयीं अंजली मल्‍ल का कहना है कि वे आगे एमडीएस की पढ़ाई प्रॉस्‍थोडॉन्टिक्‍स से करना चाहती हैं। प्रॉस्‍थोडॉन्टिक्‍स से पीजी करने की वजह पूछने पर अंजली ने कहा कि चूंकि मैं देखती हूं कि लोग दांतों और मुंह के प्रति बहुत लापरवाह रहते हैं, उस पर इतना ध्‍यान नहीं देते। बुजुर्गों को खाने में बहुत तकलीफ होती है, तो इस ब्रांच को चुनकर उनकी सेवा का अवसर मिलेगा।

अंजली कहती हैं कि जब एक्‍सीडेंट होता है तो सभी लोगों का ध्‍यान बाकी अंगों को ठीक करने की ओर पहले जाता है लेकिन उस एक्‍सीडेंट के चलते दांत टूटना या इसी प्रकार की कोई दिक्‍कत को लोग नजरंदाज कर देते हैं जो आगे जाकर चेहरे की सुंदरता पर सीधा असर डालते हैं, साथ ही दूसरी तरह की परेशानियां भी खड़ी कर देते हैं।

उन्‍होंने कहा कि युवा वर्ग सहित अन्‍य लोग जो तम्‍बाकू का सेवन करते हैं, उन्‍हें कैंसर के खतरे के बारे में जागरूक करना चाहती हूं। उनके बारे में वह कहती हैं कि कई बार हमारे पास ऐसे मरीज आते हैं जो दांत की तकलीफ लेकर आते हैं, दांत देखने के दौरान अगर उनका मुंह ठीक से नहीं खुलता है तो उन्‍हें जब यह सलाह दी जाती है कि अपनी जांच करवा लीजिये कहीं आप कैंसर के शिकार तो नहीं हो रहे हैं, इसके जवाब में उनका यह कहना होता है कि आप पहले दांत ठीक कीजिये यह बाद में दिखाता रहूंगा, मुझे इससे कोई दिक्‍कत नहीं है। अंजली कहती हैं कि मैं समझती हूं कि इस ओर अभी और ज्‍यादा जागरूकता दिखाने की जरूरत है।