Monday , May 9 2022

होम्‍योपैथ फार्मासिस्‍टों की चयन सूची तैयार, जारी होने का लम्‍बा होता इंतजार

-सभी औपचारिकताएं हो चुकी हैं पूरी, लेकिन विभाग को नहीं सौंपी गयी है सूची

सुनील यादव

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ उत्तर प्रदेश की होम्योपैथिक डिस्पेंसरियों, चिकित्सालयों एवं मेडिकल कॉलेजों में फार्मेसिस्टों के 500 से अधिक पद रिक्त हैं, 420 पदों पर अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड द्वारा सभी कार्यवाही किये जाने के बाद भी चयन सूची जारी न होने से चयनित फार्मेसिस्ट परेशान हैं, उत्तीर्ण बेरोजगार फार्मेसिस्टों ने कल आयोग के समक्ष ध्यानाकर्षण करने की सूचना दी है, फार्मेसिस्ट फेडरेशन ने आयोग के सचिव को पत्र लिखकर कोविड काल में स्वास्थ्य कर्मियों की आवश्यकता को देखते हुए तत्काल चयन सूची विभाग को सौंपने की मांग की है।

फेडरेशन के अध्यक्ष सुनील यादव ने बताया कि होम्योपैथ फार्मेसिस्ट के 420 पदों पर भर्ती के लिए फरवरी 2019 में विज्ञापन संख्या 02/परीक्षा/2019 द्वारा आवेदन आमंत्रित किये गए थे, 24 अक्टूबर 2019 को प्रतियोगात्मक परीक्षा संपन्न हुई थी, 1 वर्ष से अधिक समय बीतने के बाद 17 दिसम्बर 2020 को परिणाम आया, उत्तीर्ण परीक्षार्थियों के सभी शैक्षणिक प्रपत्रों का परीक्षण भी आयोग द्वारा 16 मार्च 21 से 20 मार्च तक किया गया, परंतु सभी औपचारिकताओं के पूरा होने के बाद भी चयन सूची अभी तक होम्योपैथिक विभाग को नहीं सौंपी गई है, जिससे नियुक्ति पत्र जारी नहीं हो पा रहा है। विशेषज्ञों द्वारा कोविड-19 को देखते हुए और ज्यादा मानव संसाधन बढ़ाये जाने की बात कही जा रही है, संभावित तीसरी लहर को देखते हुए अधिक मात्रा में स्वास्थ्य कर्मियों की आवश्यकता है, ऐसे में चयनित फार्मेसिस्टों की सूची जारी न होना निश्चित ही खेद जनक है।

उत्तर प्रदेश होम्योपैथिक फार्मासिस्ट सेवा संघ के महामंत्री शिव प्रसाद ने निदेशक होम्योपैथ को 26 जून को पत्र लिखकर उनसे अनुरोध किया है कि संगठन की मांगों पर चर्चा कर समस्याओं का समाधान करें जिसमें प्रमुख समस्या रिक्त पदों पर नियुक्ति ही है।

फेडरेशन के महामंत्री अशोक कुमार का कहना है कि कोविड-19 स्वास्थ्य कर्मियों ने अपने जान पर खेलकर मरीजों की जान बचाने के लिए हर संभव प्रयास किए, ऐसे में उनकी मांगों पर सकारात्मक कार्यवाही की जानी आवश्यक है, अन्यथा उनका आक्रोश किसी भी दिन आंदोलन में बदल सकता है।

संघ ने उच्च पदों के सृजन, पूर्व से कार्यरत फार्मेसिस्टों का बोर्ड में पंजीकरण, रविवासरीय मेले में डयूटी के स्थान पर एक दिवस अवकाश, समय पर ए सी पी, 2 वर्ष सेवा उपरांत स्थायीकरण आदेश निर्गत करने की भी मांग की है ।

संयोजक के के सचान, विद्याधर पाठक, वरिष्ठ उपाध्यक्ष जे पी नायक ने कहा है कि फेडरेशन जल्द ही उक्त मांगों को लेकर निदेशक होम्योपैथ एवं सचिव आयुष से मिलेगा। उन्होंने कहा कि फेडरेशन सभी विधाओं एवं विभिन्न विभागों, विभिन्न संस्थानों के फार्मेसिस्टों की समस्याओं के समाधान के लिए प्रयास करेगा।