आईएमए में नि:शुल्क ईवनिंग ओपीडी

सामाजिक सरोकार के क्षेत्र में एक और कदम बढ़ाया आईएमए ने

फिजीशियन की रेगुलर ओपीडी से शुरुआत, विशेषज्ञ चिकित्सक भी हैं तैयार

लखनऊ। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन आईएमए की लखनऊ शाखा ने अपने सामाजिक सरोकार की दिशा में एक और कदम बढ़ाया है, आईएमए सोमवार 31 जुलाई से नि:शुल्क ओपीडी क्लीनिक आरम्भ कर रहा है, रिवर बैंक कॉलोनी स्थित आईएमए भवन में चलने वाली इस ईवनिंग ओपीडी में सोमवार से शनिवार तक प्रतिदिन अपरान्ह 3.30 बजे से सायं 5.00 बजे तक आईएमए से जुड़े शहर के डॉक्टरों द्वारा मरीजों को देखा जायेगा, इन चिकित्सकों में सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों से जुड़े चिकित्सक शामिल हैं, फिलहाल 6 फिजीशियन और 30 विशेषज्ञ चिकित्सकों ने अपनी नि:शुल्क सेवा देने की इच्छा प्रकट की है। ज्ञात हो सामाजिक सरोकार के क्षेत्र में पिछले दिनों तेलीबाग स्थित रामभरोसे मैकूलाल इंटर कॉलेज में आईएमए ने शौचालय का निर्माण कराया था।
आईएमए द्वारा शनिवार को बुलायी गयी पत्रकार वार्ता में अध्यक्ष डॉ पीके गुप्ता ने बताया कि आईएमए अपने सामाजिक सरोकार की दिशा में कार्य करने को तत्पर है। आईएमए हर व्यक्ति तक चिकित्सा सेवाएं पहुंचाने की इच्छा रखता है इसलिए नामी-गिरामी चिकित्सकों ने अपनी सेवाएं नि:शुल्क देने का फैसला किया है। क्लीनिक में आने वाले मरीजों को डॉक्टर की सलाह के साथ दवाएं भी नि:शुल्क दी जायेंगी इसके अतिरिक्त जो भी आवश्यक जांच करायी जायेंगी वे 25 फीसदी छूट पर करने के लिए सहमति हो गयी है। इन मरीजों तथा क्षेत्रों में जाकर लोगों को डेंगू से बचाव के बारे में जागरूक किया जायेगा। पत्रकार वार्ता में उपस्थित नेशनल पैथोलॉजी के डॉ अमित ने बताया कि अति निर्धन मरीज को जांच की सुविधा नि:शुल्क मिलेगी। डॉ गुप्ता ने बताया कि अभी भी आईएमए से जुड़े कई निजी चिकित्सक गरीबों को फ्री इलाज देेते हैं, फ्री में जांचें करते हैं लेकिन इसके बारे में किसी को पता नहीं चलता है।
डॉ गुप्ता ने बताया कि फिलहाल डेंगू फीवर का प्रकोप होने के कारण मुख्य जोर बुखार वाले मरीजों पर है इसीलिए फीवर क्लीनिक से इसकी शुरुआत की जा रही है लेकिन साथ ही निकट भविष्य में अन्य विशेषज्ञ चिकित्सकों की भी सेवाएं उपलब्ध रहेंगी। उन्होंने बताया कि बुखार के लिए सोमवार से शनिवार तक उपलब्ध रहने वाले फिजीशियन क्रमश: डॉ नवनीत किशोर, कर्नल डॉ जीके सेठ, डॉ प्रांजल अग्रवाल, डॉ केएन पटनी, डॉ प्रांशू अग्रवाल तथा डॉ सौरभ करमाकर हैं। उन्होंने बताया कि ओपीडी संचालन के लिए डॉ रुखसाना खान के नेतृत्व में डॉ प्रांजल अग्रवाल को अधिकृत किया गया है।
पत्रकार वार्ता में केजीएमयू के डॉ जेडी रावत, संजय गांधी पीजीआई की डॉ पियाली भट्टाचार्य, कर्नल डॉ जीके सेठ, मनोचिकित्सक डॉ अलीम सिद्दीकी, डॉ प्रांशू अग्रवाल तथा डॉ सौरभ करमाकर शामिल रहे।
उन्होंने बताया कि जिन 30 विशेषज्ञ चिकित्सकों ने अपनी सेवाएं देने की सहमति दी है उनमें डॉ एएम खान, डॉ रुखसाना खान, डॉ जेडी रावत, डॉ आरबी सिंह, डॉ एचएस पाहवा, डॉ मनीश टंडन, डॉ सुरेश तलवार, डॉ पूनम मिश्रा, डॉ पियाली भट्टाचार्य, डॉ ताहिर जैदी, डॉ विनोद तिवारी, डॉ अनंत शील चौधरी, डॉ ओपी गुप्ता, डॉ जेबा सिद्दीकी, डॉ श्रीश भटनागर, डॉ सीमा तिवारी, डॉ सौरव शुक्ला, डॉ शैलेश, डॉ रजत रस्तोगी, डॉ निर्मला जोशी, डॉ मेंहदी अब्बास, डॉ अरुण श्रीवास्तव, डॉ आरके बुंदेला, डॉ रहबर अंसारी, डॉ मोहिता भूषण, डॉ अलका, डॉ यशपाल सिंह, डॉ नीरज पाण्डेय, डॉ मो.शहजाद नय्यर, डॉ अहमद अयाज शामिल हैं।