सम्‍भल कर खाइये जनाब, क्‍योंकि दिल का मामला है…

-संजय गांधी पीजीआई की वरिष्‍ठ आहार विशेषज्ञ ने बताया, कौन सा आहार बचायेगा दिल की बीमारियों से

रमा त्रिपाठी, वरिष्‍ठ आहार विशेषज्ञ

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। कोरोना को हराने के लिए आपके दिल का मजबूत होना बहुत जरूरी है क्योंकि मजबूत दिल ही वायरस पर जीत हासिल करने में आपकी मदद करेगा जबकि कमजोर दिल के लोगों पर कोरोना बहुत भारी पड़ सकता है। दिल की बीमारी से बचने मैं आहार का एक बड़ा योगदान है, संतुलित व स्वस्थ आहार को अपनाकर दिल की बीमारियों से दूर रहा जा सकता है। दक्षिण भारतीय व्‍यंजन जो अधिकतर भाप में पकतें हैं, वे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए ज्‍यादा लाभदायक हैं। इसे पकाने में ऑयल भी कम लगता है।

यह जानकारी विश्‍व हृदय दिवस के मौके पर देते हुए संजय गांधी पीजीआई की वरिष्‍ठ आहार विशेषज्ञ रमा त्रिपाठी ने बताया कि विश्‍व हृदय दिवस 29 सितंबर को मनाया जाता है, इस दिवस की पहल वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के निदेशक ने 1999 में विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ इस उद्देश्य से की थी कि किस प्रकार एक संयमित व अनियमित जीवनशैली अपनाकर हम अपने हृदय को स्वस्थ रखें। भारत में दिल के मरीजों की संख्या में बड़ी तेजी से इजाफा हो रहा है और खासकर हमारा युवा वर्ग भी इसकी चपेट में आ रहा है।

रमा त्रिपाठी बताती हैं कि संतुलित व स्वस्थ आहार को अपनाकर दिल की बीमारियों से दूर रहा जा सकता है। उन्होंने कहा मौसमी फल सब्जियां, सलाद, साबुत अनाज, अंकुरित दालें, जिनमें फाइबर अधिक मात्रा में पाया जाता है, इन्हें लेना चाहिए। इसके अलावा जंक फूड जैसे पेस्‍ट्री, बर्गर, पिज्जा, नूडल्स, रोल्स, कोल्ड ड्रिंक को दूर रखना चाहिए। इसी प्रकार रेड मीट खाने से बचें, यह कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है, कैफ़ीन से बचें अर्थात चाय-कॉफी का सेवन बहुत कम करें तथा ग्रीन या हर्बल टी का सेवन करें।

इसी प्रकार ओमेगा 3 ओमेगा 6 वसायुक्त खाने जैसे बादाम, अखरोट, अलसी का बीज, मछली का सेवन लाभकारी है, जबकि सफेद चीजें जैसे नमक, चीनी व मैदे से दूरी बनाकर रखें। उन्‍होंने कहा कि रोज के खाने में नमक 5 ग्राम से अधिक न लें।

रमा त्रिपाठी बताती हैं कि इसके अलावा अंडा, चिकन, दूध व दही, पनीर जिनमें कैल्शियम, विटामिन व मिनरल्स का खजाना है, इन्हें अपने खानपान में जरूर शामिल करें। इसी प्रकार जूस पीने के बजाय पूरा फल खाने में अधिक ध्यान दें। तली हुई चीजें जैसे पूरी-पराठा, समोसा, चाट-पकौड़ी खाने से बचें। दक्षिण भारतीय व्यंजन जो अधिकतर भाप में पकाये जाते हैं, जैसे इडली, उत्तपम, दोसा को अपने खाने में जरूर शामिल करें।

इसके अतिरिक्त विटामिन सी जैसे नींबू, आंवला, अमरूद, टमाटर, ब्रोकली का सेवन अधिक करें। उन्होंने कहा कि रात का खाना जल्दी खाएं और सोने से पहले मलाई रहित दूध का सेवन करें। इसके अतिरिक्त पैकेज्‍ड फूड में केमिकल होते हैं, जिनसे पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं, इसलिए इनका प्रयोग न करें। समय-समय पर चिकित्सकों की सलाह द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण व कोलेस्ट्रोल, ब्लड प्रेशर और खून में शुगर की मात्रा की जांच कराते रहें।