Monday , November 28 2022

एएनएम ने अपनी मांगों को लेकर मुख्‍यमंत्री को लिखा पत्र, मिलने का समय मांगा

-PET से छूट, 25,000 मानदेय सहित कई और मांगें हैं शामिल

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश के तहत कोविड-19 टीकाकरण, नियमित टीकाकरण सहित अन्य राष्ट्रीय कार्यक्रमों में संविदा पर कार्यरत लगभग 16,000 एएनएम महिलाओं की समस्याओं के समाधान तथा हो रहे उत्पीड़न को समाप्त करने के लिए आग्रह पत्र मुख्यमंत्री को उचित माध्यम द्वारा प्रेषित किया गया। इस पत्र में मुख्‍यमंत्री से एएनएम व उनके परिवार को न्‍याय मिलने का विश्‍वास जताते हुए अपनी मांगों को रखते हुए मुख्‍यमंत्री से मिलने का समय मांगा गया है।

शुक्रवार 23 जुलाई को जारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि मुख्‍यमंत्री को सम्‍बोधित पत्र में एएनएम ने सामूहिक रूप से हस्‍ताक्षर कर भेजे गये आग्रह पत्र में कहा गया है कि सरकार शासन की मंशा के अनुसार राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत संविदा पर उत्तर प्रदेश में कोविड-19 टीकाकरण, नियमित टीकाकरण सहित अन्य राष्ट्रीय कार्यक्रमों का सफल संचालन कार्यरत लगभग 16,000 एएनएम महिलाओं द्वारा किया जा रहा है। इन एएनएम द्वारा अपने आग्रह पत्र में जिन मांगों को रखा गया है उनमें 1 संविदा पर स्वास्‍थ्‍य विभाग में कार्यरत एएनएम को अधीनस्थ चयन सेवा आयोग की PET परीक्षा से मुक्त रखा जाए। 2. नियमित पदों पर समायोजन होने तक के लिए कार्यरत संविदा एएनएम को न्यूनतम वेतन 25000 मासिक दिया जाए। 3. संविदा एएनएम की सुरक्षा को देखते हुए महिला शक्ति के तहत उनके गृह जनपद में ट्रांसफर कर तैनाती करने के लिए आवश्यक कार्रवाई की जाए। 4. कोविड-19 महामारी में मृतक संविदा एएनएम व अन्य संविदा कर्मियों के परिवार को आर्थिक सहायता राशि अतिशीघ्र प्रदान की जाए। 5 कोविड-19 की प्रोत्साहन राशि वेतन का 25% समस्त संविदा एएनएम को प्रदान किया जाए।

एएनएम का कहना है कि सीधे कोविड-19 कार्य एएनएम के द्वारा किया जा रहा है, इनमें कोविड-19 टीकाकरण, कोविड-19 मरीज का सर्वे देखभाल जैसे कार्य शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

16 + 10 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.