अन्‍य अंगों के साथ ही दिमाग पर भी पड़ता है धूम्रपान का असर

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर निकली रैली में सीएमओ ने किया खबरदार

लखनऊ। लखनऊ के मुख्‍य चिकित्‍सा अधिकारी डॉ नरेन्‍द्र अग्रवाल ने कहा है कि लंबे समय तक निष्क्रिय धूम्रपान (पैसिव स्‍मोकिंग) से दिमाग पर भी प्रभाव पड़ता है। उन्होंने कहा कि तंबाकू सेवन खतरनाक है । इसके स्वास्थ्य संबंधी दुष्प्रभाव अल्पकालिक और दीर्घकालिक हो सकते हैं। यह प्रभाव केवल तंबाकू के नियमित सेवन से ही नहीं बल्कि कभी-कभी इस्तेमाल करने से अथवा निष्क्रिय धूम्रपान से भी हो सकते हैं

 

सीएमओ ने यह बात आज 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर एक जागरूकता रैली को सम्‍बोधित करते हुए कहीं। रैली का आयोजन साउथ सिटी स्थित एलपीएस स्कूल से किया गया। इस रैली का उद्घाटन मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर नरेंद्र अग्रवाल ने झंडी दिखाकर किया। रैली को संबोधित करते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि धूम्रपान न केवल व्यक्तिगत स्वास्थ्य को हानि पहुंचाता है बल्कि ऐसे लोग जो आसपास या । ऐसे व्यक्तियों को जिन्हें दूसरे के धूम्रपान से नुकसान होता है उन्हें निष्क्रिय धूम्रपान करने वाला कहते हैं। महिलाएं एवं बच्चे निष्क्रिय धूम्रपान से विशेष रूप से प्रभावित होते हैं। इससे सांस लेने में तकलीफ, अस्थमा, खांसी, दिल का दौरा पड़ने,  कैंसर, गला नाक आंख में जलन, कान में संक्रमण हो सकता है।

उन्होंने कहा कि यदि कोई व्यक्ति किसी प्रकार से तंबाकू सेवन कर रहा है तो उसे तंबाकू छोड़ने से कई फायदे हो सकते हैं। इनमें हृदय आघात के खतरे में कमी ,कैंसर से बचाव एवं अन्य स्वास्थ्य सुधार शामिल हैं ।शुरू में तंबाकू छोड़ने से कई प्रकार की परेशानी महसूस हो सकती है,, जिसके लिए व्यक्ति के परिवार का सहयोग आवश्यक है। रैली में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ सईद अहमद ,अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर अनूप श्रीवास्तव,उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा उमा शंकर लाल,डा वाई के सिंह तथा जिला तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठ के नोडल अधिकारी डॉ केपी त्रिपाठी,डा एस के सक्सेना श्री योगेश रघुवंशी ने भी भाग लिया। इस रैली में 63 बटालियन एनसीसी तथा स्वास्थ्य विभाग के लगभग 1250 कैडेट्स एवं अधिकारियों तथा कर्मचारियों ने भाग लिया। रैली एलपीएस स्कूल साउथ सिटी से प्रारंभ होकर लगभग 2 किलोमीटर का चक्कर लगाकर एलपीएस स्कूल पर ही समाप्त हुई।