एम्स के निदेशक ने कहा, कम से कम 14 दिन का होना चाहिये लॉकडाउन

-वायरस को फैलने से रोकने के लिए के लिए छोटी अवधि के लॉकडाउन से फायदा नहीं

-समय से डायग्‍नोसिस होने से घट सकती है मृत्‍यु दर, वर्तमान की 2.7 प्रतिशत को लाना है 1 पर

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश में 55 घंटे के मिनी लॉकडाउन की शुरुआत शुक्रवार रात्रि 10 बजे से हो चुकी है, यह लॉकडाउन 13 जुलाई को प्रात: 5 बजे तक चलेगा। इस बीच ऑल इंडिया इंस्‍टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एम्स) दिल्‍ली के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा कि कोरोना वायरस के प्रसारण को रोकने के लिए अल्पकालिक लॉकडाउन किसी भी मदद का नहीं होगा, वायरस को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन कम से कम 14 दिनों का होना चाहिए।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार यह बात डॉ गुलेरिया ने एसबीआई के समारोह में कही। आपको बता दें महाराष्ट्र के पुणे जैसे शहरों में महामारी फैलने को रोकने के लिए 10 दिनों तक के लॉकडाउन की घोषणा की गई है। एम्स निदेशक ने कहा कि वायरस को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन कम से कम 14 दिनों का होना चाहिए।

डॉ गुलेरिया ने कहा कि नए संक्रमण बढ़ने की प्रवृत्ति बड़े शहरों में अगले कुछ हफ्तों में कम या ज्यादा हो जाएगी, जबकि समग्र नए संक्रमणों को कम होने में अधिक समय लगेगा।

यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब भारत एक दिन में 23,000 से अधिक नए मामलों की रिपोर्ट कर रहा है, लेकिन लगता है कि मुंबई जैसे शहर चोटी के मुकाबले नए मामलों की संख्या को कम करके सपाट हो गए हैं।

घंटों पहले, अधिकारियों ने पुणे में 10-दिवसीय तालाबंदी की घोषणा की, जो कि 14 जुलाई से औद्योगिक शहर पिंपरी-चिंचवड और अन्य क्षेत्रों से सटे हुए थे, जबकि करबों को ठाणे, वित्तीय राजधानी के उपनगर, 19 जुलाई तक बढ़ाया गया था।

“बहुत कम अवधि के लॉकडाउन का प्रसारण की श्रृंखला को तोड़ने के लिए कोई उपयोग नहीं है। आपको सोशल डिस्टेंसिंग की आवश्यकता है। लॉकडाउन हटने पर लोग सारी बातें भूल जाते हैं। आपको क्लस्टर्स और कंटेंट को बारीकी से मॉनिटर करना होगा। गुलेरिया ने कहा कि वायरस को फैलने से रोकने के लिए इसे (लॉकडाउन) कम से कम 14 दिन होना चाहिए। उन्होंने कहा कि एक विकल्‍प यह भी है कि शहर में पूरा लॉकडाउन न कर खास क्षेत्रों में कंटेन्‍मेंट जोन बनाया जा सकता है।

दिल्ली में एक दिन में 4,000 से अधिक मामले होते थे, जो अब 3,000 से कम हो गए हैं, उन्होंने कहा, “कुछ चपटा हुआ है”। हालांकि, यहां से एकमात्र चिंता यह है कि एक ही निरंतर कैसे है, उन्होंने कहा, अमेरिका में लोगों की तरह उदाहरणों का हवाला देते हुए, जहां मामलों ने एक दिन में 40,000 से अधिक बार गोली मार दी है क्योंकि लोगों ने मिलाना शुरू कर दिया है।

चिकित्सा विशेषज्ञ ने पूरी आबादी को सोशल डिस्‍टेंसिंग, मास्‍क, हाथों की सफाई जैसी बातों का पालन करने पर जोर देते हुए कहा कि इसका के बाद लॉकडाउन हटा लेने के बाद बहुत जिम्मेदारी से कार्य करना होगा। उन्‍होंने कहा कि यदि जिम्‍मदारी से रहा जाये तो अर्थव्‍यवस्‍था के और हिस्‍सों को भी शुरू किया जा सकता है।

उन्होंने स्वीकार किया कि यह देश के लिए एक चुनौतीपूर्ण समय है क्योंकि लॉकडाउन की एक आर्थिक लागत है जिसने पर्यटन जैसे कुछ उद्योगों को बड़े पैमाने पर प्रभावित किया है लेकिन यह भी कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी और मीडिया ने अच्छा प्रदर्शन किया है।

उन्होंने कहा कि मरीजों के की सही समय पर डायग्‍नोसिस होनी जरूरी है, ऐसा करने से मृत्‍यु दर में कमी लायी जा सकती है।  उन्होंने कहा कि वर्तमान 2.7 प्रतिशत के मुकाबले मृत्यु दर को 1 प्रतिशत तक कम करना है।