बाहर से दवा लिखने पर स्वास्थ्य मंत्री ने दिए काररवाई के निर्देश

आगरा जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण किया सिद्धार्थनाथ सिंह ने

 

सिद्धार्थ नाथ सिंह

लखनऊ. प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बाहर से दवा लिखने वाले चिकित्सकों पर काररवाई करने के निर्देश दिए हैं. श्री सिंह ने आज आगरा के जिला चिकित्सालय का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने मरीजों को बाहर की दवा लिखने पर नाराजगी व्यक्त की और मुख्य चिकित्साधिकारी को उन चिकित्सकों के विरुद्ध उचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए। मंत्री ने अस्पताल में गंदगी पाये जाने पर असंतोष व्यक्त करते हुए कहा कि अस्पताल में साफ-सफाई की समुचित व्यवस्था कराई जाए।

         

 

ज्ञात हो आगरा जिला चिकित्सालय में अव्यवस्था का बोलबाला है. बीपी जांच करने के लिए, प्लास्टर चढ़ाने के लिए मरीजों से पैसा माँगा जाता है. दवाएं बाहर से लिखी जाती हैं. इस तरह के आरोपों का सामना पिछले दिनों अपर मुख्य सचिव शम्भू नाथ शुक्ल को अस्पताल का दौरा करने के दौरान हुआ था.

           

            

सिद्धार्थ नाथ सिंह ने निरीक्षण के दौरान अस्पताल में दवाओं की उपलब्धता के विषय में जानकारी ली और मुख्य चिकित्साधिकारी को निर्देशित किया कि मरीजों को सरकारी दवाएं स्टोर से उपलब्ध करायी जाएं, इसमें किसी प्रकार की शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने मुख्य चिकित्साधिकारी को दवाओं व ऑक्सीजन की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान उन्होंने मरीजों से मुलाकात की और उनका हाल पूछा।

 

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े समस्त उपकरणों की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए, जिससे मरीजों को बाहर से जांच आदि न कराना पड़े। उन्होंने सभी अस्पतालों में डाक्टरों तथा पैरामेडिकल स्टाफ को समय से उपस्थित रहने के कड़े निर्देश दिए।