8 मार्च को महिलाओं को कोरोना वैक्‍सीन के लिए 225 विशेष सत्र

-यूपी के सभी 75 जनपदों में आयोजित होंगे तीन-तीन विशेष सत्र

-अंतर्राष्‍ट्रीय महिला दिवस पर किया जा रहा है विशेष सत्रों का आयोजन

-1 मार्च से चल रहे टीकाकरण के लिए कई निर्देश जारी किये गये

file photo

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। आगामी 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर उत्‍तर प्रदेश के प्रत्येक जनपद में कोविड टीकाकरण के तीन विशेष सत्रों (अर्थात 225 सत्रों) का आयोजन किया जाएगा। इन विशेष सत्रों की खास बात यह है कि ये सत्र पूर्णत: महिलाओं को समर्पित होंगे यानी इसमें टीकाकरण करने वाली टीम में सभी महिलाएं होंगी साथ ही जिन्हें टीका लगना है वे लाभार्थी भी सभी महिलाएं होंगी।

स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद द्वारा 1 मार्च से शुरू हुए 60 वर्ष से अधिक तथा 45 वर्ष से 59 वर्ष के बीच की आयु के वे लोग जिन्हें कोई गंभीर बीमारी है, के लिए चल रहे टीकाकरण अभियान के लिए जारी निर्देशों में यह जानकारी दी गयी है।

स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों व फ्रंटलाइन वर्कर्स को दूसरा डोज सरकारी अस्‍पताल में

अमित मोहन प्रसाद द्वारा सभी जिलाधिकारियों एवं सभी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि जिन स्वास्थ्य कर्मियों व फ्रंटलाइन वर्कर्स को पहली डोज निजी अस्पतालों में सोशल साइट बनाकर दी गई थी, उन लाभार्थियों को अब दूसरी डोज जिला अस्पताल अथवा अन्य किसी सरकारी अस्पताल पर लगाई जाएगी। ज्ञात हो अब निजी अस्पतालों में प्रत्येक डोज की कीमत ₹250 रुपये तय कर दी गई है वहां अब निजी अस्पतालों में अब शुल्क देने के बाद ही व्यक्ति ही लगेगी। चूंकि स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों व फ्रंटलाइन वर्कर्स को डोज फ्री में दी जानी है, ऐसे में उनके लिए दूसरी बूस्‍टर डोज सरकारी अस्‍पताल में लगाने की व्‍यवस्‍था की जा रही है।

श्री प्रसाद ने अपने निर्देशों में यह भी कहा है कि मार्च के महीने में उपलब्ध होने वाली वैक्सीन के आधार पर जनपदों का लक्ष्य अभी जो इंगित किया गया है वह घट-बढ़ सकता है। उन्होंने कहा इस बारे में विस्तृत योजना कल 3 मार्च को राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन तथा महानिदेशक परिवार कल्याण को उपलब्ध करा दी जायेगी।

मेडिकल कॉलेजों व जिला अस्‍पतालों में सप्‍ताह में छह दिन होगा टीकाकरण

उन्होंने अपने निर्देशों में कहा है कि टीकाकरण सभी जिला अस्पतालों एवं मेडिकल कॉलेजों में सोमवार से शनिवार तक यानी सप्ताह में 6 दिन किया जाएगा जबकि शेष सभी सरकारी केंद्रों पर सप्ताह के तीन दिवस सोमवार, गुरुवार एवं शुक्रवार को टीकाकरण किया जाएगा। निर्देशों में कहा गया है कि निजी अस्पतालों में जहां टीकाकरण किया जा रहा है उनके द्वारा सप्ताह में कम से कम 4 दिवसों पर टीकाकरण का कार्य किया जाएगा।

प्री रजिस्‍ट्रेशन वालों को 9 से 11 बजे तक मिलेगी प्राथमिकता

निर्देशों में यह भी कहा गया है कि शहरी कोविड वैक्सीनेशन केंद्र पर 60 प्रतिशत स्लॉट प्री रजिस्ट्रेशन के लिए रखा जाएगा जबकि 40 प्रतिशत स्लॉट केंद्र पर सीधे पहुंचने वाले लोगों के लिए रखा जाएगा।  इसी प्रकार ग्रामीण क्षेत्रों में यह व्यवस्था 50 प्रतिशत प्री रजिस्ट्रेशन तथा 50 प्रतिशत सीधे केंद्र पर पहुंचने बालों के लिए होगी। निर्देशों में कहा गया है कि वैक्सीनेशन का कार्य सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक किया जाएगा। जिन लोगों ने पहले से रजिस्ट्रेशन करवाया होगा उन्हें प्रातः 9 से 11 तक टीका लगाया जाएगा जबकि 11 बजे के बाद अन्य सभी लोग ‘पहले आओ पहले पाओ’ के आधार पर टीकाकरण करवाएंगे।

नेट कनेक्टिविटी हो या न हो, ग्रामीणों को वैक्‍सीनेशन हर हाल में

श्री प्रसाद ने कहा है कि निजी टीकाकरण केंद्रों के लिए प्रशिक्षण की व्यवस्था 3 मार्च को की जा रही है इसमें सभी निजी अस्पतालों को प्रशिक्षण के लिए सूचित किया जाएगा। उन्‍होंने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्रों में चूंकि इंटरनेट कनेक्टिविटी की समस्या है इसलिए वहां टीकाकरण के लिए आये किसी भी लाभार्थी को इंटरनेट कनेक्टिविटी न होने के वजह से वापस नहीं किया जाएगा, ऐसे लोगों की फोटो लेने आदि की प्रक्रिया को पूर्ण करते हुए उनका टीकाकरण किया जाएगा तथा बाद में इंटरनेट कनेक्टिविटी उपलब्ध होने पर डाटा अपलोड कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहा है कि निजी अस्पतालों को 100 अथवा 100 के गुणांक (जैसे 100 200 300 400) में ही वैक्सीन की डोज उपलब्ध करवाई जाएगी। अस्पताल की खुदरा मांग पर विचार नहीं किया जाएगा।