कीटाणुशोधन के लिए अत्याधुनिक मशीन पर रिसर्च करेगा आईआईटीआर

माइक्रोवेव आधारित ऑप्टिमेजर मशीन के लिए एएमयू पर हस्ताक्षर

लखनऊ। सीएसआईआर-भारतीय विषविज्ञान अनुसंधान संस्थान  (सीएसआईआर-आईआईटीआर), लखनऊ ने एसएस मेडिकल सिस्टम्स (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड के साथ सेंटर फॉर इनोवेशन एंड ट्रांसलेजनल रिसर्च (सितार) के तहत औपचारिक रूप से समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर आज 2 जून को हस्ताक्षर किए।
सीआईएसआईआर-आईआईटीआर बायोमेडिकल कचरे/ बायोमेडिकल उपकरणों के कीटाणुशोधन  के लिए दुनिया में माइक्रोवेव आधारित ऑप्टिमेजर मशीन के सह-विकास के लिए अनुसंधान और विकास का विस्तार करेगा। सीएसआईआर-आईआईटीआर पर्यावरण, स्वास्थ्य और उद्योग सेवा के लिए आदर्श वाक्य सुरक्षा के साथ विषविज्ञान अनुसंधान में अग्रणी है। यह समझौता ज्ञापन चिकित्सा और जैविक कचरे के निस्तारण से समाज की सुरक्षा के लिए माइक्रोवेव आधारित तकनीक और  समाधान को अपनाने का मार्ग प्रशस्त करेगा।
इस समझौते पर सीएसआईआर-आईआईटीआर के निदेशक प्रोफेसर आलोक धवन और कार्यकारी निदेशक / मुख्य तकनीकी सलाहकार, एसएस मेडिकल सिस्टम (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड मनीष भंडारी ने हस्ताक्षर किए। माइक्रोवेव असिस्टेड क्लिनिकल ट्रांसजनल रिसर्च प्रोग्राम पर सीएसआईआर-आईआईटीआर और एसएस मेडिकल सिस्टम के बीच यह अनुसंधान साझेदारी पशु-घर अपशिष्ट कीटाणुशोधन के लिए नए तरीकों को विकसित करने, नशीली दवाओं, रक्त की थैलियों  आदि के संक्रमण को रोकने के लिए माइक्रोवेव प्रौद्योगिकी के दायरे का विस्तार करेगी।
यह एमएसएमई के लिए समर्थन बढ़ाने और व्यापक रूप से एकीकृत करने के लिए केंद्र सरकार की पहल के अनुसार मेक इन इंडिया, कायाकल्प,  डिजिटल इंडिया और स्टार्टअप इंडिया पर साथ उत्तर प्रदेश राज्य में सीएसआईआर-आईआईटीआर की पहल है। स्वस्थ भारत और स्वच्छ भारत के राष्ट्रीय मिशन यह सितार मंच के माध्यम से उद्योग के लिए नवीन वैज्ञानिक और तकनीकी समाधान प्रदान करने के लिए सीएसआईआर-आईआईटीआर में एक नये युग की शुरुआत है।