प्राकृतिक न्यूरोटॉक्सिन पर शोध करने की जरूरत

आईआईटीआर का दौरा किया अमेरिकी वैज्ञानिक ने

लखनऊ। डॉ. पीटर एस स्पेंसर, प्रोफेसर, न्यूरोलॉजी विभाग, स्कूल ऑफ मेडिसिन, ओरेगॉन इंस्टीट्यूट ऑफ ऑक्यूपेशनल हेल्थ साइंसेज, ओरेगन हेल्थ एंड साइंस यूनिवर्सिटी, पोर्टलैंड, ओरेगन, यूएसए ने कहा है कि प्राकृतिक न्यूरोटॉक्सिन पर शोध के लिए ध्यान देने की जरूरत है क्योंकि यह खतरनाक हो सकता है।

एक्यूट एन्सेफ्लाइटिस सिंड्रोम पर लेक्चर दिया डॉ. स्पेन्सर ने

डॉ. स्पेंसर ने सोमवार को सीएसआईआर-इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टॉक्सिकोलॉजी रिसर्च, लखनऊ में दौरा किया। डॉ स्पेन्सर एक उत्कृष्ट शोधकर्ता है और उन्होंने प्रायोगिक और नैदानिक न्यूरोटॉक्सिकोलॉजी में बड़े पैमाने पर योगदान दिया है। उन्होंने वैज्ञानिकों और युवा शोधकर्ताओं से बातचीत की और पर्यावरण रसायन की विषाक्तता के तंत्र को सुलझाने के लिए सीएसआईआर-भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, लखनऊ के प्रयासों की सराहना की।
उन्होंने एशियन सीजनल -एक्यूट एन्सेफ्लाइटिस सिंड्रोम-न्यूरोटॉक्सिक नॉट इन्फैक्शियस विषय पर एक भाषण दिया। उन्होंने कहा कि न्यूरोटॉक्सिक संक्रामक नहीं है। अपने संबोधन के दौरान, उन्होंने जोर दिया कि प्राकृतिक न्यूरोटॉक्सिन पर शोध करने के लिए अधिक ध्यान दिया जाना चाहिए क्योंकि यह घातक हो सकता है।

लीची के प्रतिकूल और लाभकारी प्रभावों को समझने के लिए शोध पर जोर

उन्होंने लीची के विषाक्त पदार्थों और कसावा और खेसारी दाल के उदाहरण दिए जिनसे महामारी की कई घटनाएं हुईं। प्रोफेसर स्पेन्सर ने अपने सम्बोधन में कहा, यहां तक कि जिन पत्ते वाली सब्जियों को बड़े चाव के साथ खाया जाता है उनमें ऐसे जहरीले पदार्थ हो सकते हैं जो जानलेवा न्यूरोलॉजिकल बीमारी का कारण बन सकते हैं। उन्होंने कहा कि लीची के प्रतिकूल और लाभकारी प्रभावों को समझने के लिए शोधकर्ता / अकादमिक / उद्योग / सरकारी व्यक्तियों को मिलकर कार्य करना चाहिये।
उन्होंने कहा कि भारत में अलग-अलग समस्याएं हैं जो अद्वितीय हैं, इन समस्याओं को हल करने के लिए ठोस प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि नैदानिक और प्रयोगात्मक विष विज्ञान की समझ स्वास्थ्य समस्याओं का प्रबंधन करने और प्रकोप के दौरान लोगों की जान बचाने में मदद करेगी। उन्होंने सीएसआईआर-भारतीय संस्थान के विष विज्ञान अनुसंधान, लखनऊ में न्यूरोटॉक्सिकोलॉजी का उत्कृष्ट केंद्र बनाने पर जोर दिया।